पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ज्ञानशाला बंद:शुरू होने के 37 घंटे बाद बंद हुई गोडसे की ज्ञानशाला

ग्वालियर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दौलतगंज स्थित अखिल भारत हिंदू महासभा के ऑफिस में शुरू हुई गोडसे की ज्ञानशाला महज 37 घंटे ही चल पाई। इस दौरान ज्ञानशाला में इस विचारधारा के लोगों का आना-जाना रहा, लेकिन इससे जुड़ा साहित्य नहीं रखा गया। ज्ञानशाला के आयोजकों की योजना के अनुसार 23 दिसंबर को ज्ञानशाला में नाथूराम गोडसे के अलावा गुरु तेगबहादुर, महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, मदनमोहन मालवीय, स्वामी श्रद्धानंद, लाला लाजपतराय, डॉ. हेडगेवार, वीर सावरकर से जुड़ा साहित्य रखा जाना था।

इसमें नाथूराम गोडसे द्वारा न्यायालय में दिया गया आखिरी बयान भी लोगों के पढ़ने के लिए रखा जाना था। पुलिस, प्रशासन के अफसरों और गोडसे की ज्ञानशाला शुरू करने वालों के बीच बैठक के बाद तय हुआ कि ज्ञानशाला बंद कर दी जाए। आयोजकों का कहना था कि अगर इससे देश या शहर का माहौल खराब हो रहा है तो वे इसे बंद कर देंगे।

उल्लेखनीय है कि अखिल भारत हिंदू महासभा ने दौलतगंज स्थित अपने ऑफिस में गोडसे ज्ञानशाला शुरू करने की घाेषणा लगभग एक सप्ताह पहले की थी। 10 जनवरी को दोपहर 1 बजे इसका उद्धाटन किया गया। इसके बाद कांग्रेस की ओर से इसका विरोध शुरू किया तब प्रशासन और पुलिस सक्रिय हुई ।

11 जनवरी रात को पुलिस और प्रशासन की अखिल भारत हिंदू महासभा के नेताओं के साथ बैठक हुई। यहां पर गोडसे की ज्ञानशाला से शांति सद्भाव बिगड़ने की आशंका प्रशासन द्वारा व्यक्त की गई और ज्ञानशाला को बंद करने के लिए आयोजकों से कहा। इसके बाद इस ज्ञानशाला को बंद कर दिया गया। 11 जनवरी को ज्ञानशाला में समरसता कार्यक्रम तथा सुंदरकांड का पाठ किया गया था, लेकिन यहां पर साहित्य उपलब्ध नहीं हो पाया था इसलिए ज्ञानशाला में आकर अध्ययन कोई नहीं कर पाया।

प्रशासन व पुलिस के साथ बैठक के बाद ज्ञानशाला को बंद कर दिया है

जिला प्रशासन तथा पुलिस ने बैठक में ज्ञानशाला से शांति सद्भाव खराब होने की आशंका जाहिर की थी, इस वजह से गोडसे की ज्ञानशाला को बंद कर दिया गया है।

-डॉ. जयवीर भारद्वाज, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, अखिल भारत हिंदू महासभा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser