पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शराब के भरोसे सरकार!:नए शराब ठेकों के लिए सिर्फ 5% वृद्धि पर नवीनीकरण की तैयारी में सरकार

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शराब दुकानों के छोटे ग्रुप बनाकर ऑफर लेकर दिए जा सकते हैं ठेके। - Dainik Bhaskar
शराब दुकानों के छोटे ग्रुप बनाकर ऑफर लेकर दिए जा सकते हैं ठेके।
  • कोरोना संकट में शराब ठेकों से लगातार दूसरे साल राजस्व का नुकसान संभव

प्रदेश में नए शराब ठेकों के लिए इस बार टेंडर नहीं किए जाएंगे। ठेकों की अवधि 31 मई को समाप्त हो रही है। कोरोना आपदा के चलते औसतन 15 से 20 फीसदी वृद्धि पर टेंडर करना भी संभव नहीं है। इसलिए आबकारी विभाग के उच्च अधिकारी शराब ठेकों के वर्तमान मूल्य से 5 फीसदी वृद्धि 31 मई के बाद ठेकाें का नवीनीकरण करने की तैयारी कर रहे हैं।

जिलों में शराब दुकानों के छोटे ग्रुप बनाकर उनसे ऑफर लेकर ठेके दिए जाने का भी प्रस्ताव है। नई आबकारी नीति का प्रस्ताव शासन के पास विचाराधीन है। आगामी वर्ष की ठेका प्रक्रिया अप्रैल और मई इन दो महीनों की करीब 1500 करोड़ रुपए की फीस कम कर पूरी की जाएगी। शासन इस मामले में शराब ठेकेदारों की सहमति बनाने के लिए उनके साथ बैठक भी करेगा। विगत वर्ष शराब ठेके 10638 करोड़ के मूल्य पर दिए गए थे लेकिन कोरोना के कारण लॉकडाउन में शराब दुकानें बंद रहने से ठेकेदारों ने शासन से ठेकों का मूल्य कम करने की मांग की।

20 फीसदी तक वृद्धि होती तो 2000 करोड़ का अतिरिक्त राजस्व मिलता
आबकारी विभाग की निर्धारित प्रक्रिया के तहत शराब ठेकों में वर्तमान मूल्य में औसतन 15 से 20% वृद्धि पर टेंडर प्रक्रिया से ठेके दिए जाने पर वर्तमान मूल्य 9300 में लगभग 2000 करोड़ तक की वृद्धि हो सकती थी। टेंडर प्रक्रिया के ठेके किए जाने पर बड़े महानगरों में 30 एवं इससे अधिक फीसदी पर भी शराब ठेके किए जाते थे।

खबरें और भी हैं...