• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Had Called And Said That I Will Reach Home In 50 Minutes, Never Reached Home Again, Only The News Of Death Came

खाने पर इंतजार करते रहे बीवी-बच्चे, आई बुरी खबर:सड़क पर खड़े ट्रक में घुसी जीप, ड्राइवर समेत 3 की मौत; 3 घायलों में 1 गंभीर

ग्वालियर2 महीने पहले

ग्वालियर में मंगलवार रात रोड एक्सीडेंट में वेक्टस कंपनी के तीन कर्मचारियों की मौत हो गई। कर्मचारियों की जीप सड़क पर खड़े ट्रक से टकरा गई। ट्रक के पीछे लगा एंगल जीप ड्राइवर और एक अन्य कर्मचारी के सिर में घुस गया जिससे दोनों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि अन्य चार कर्मचारी घायल हो गए। इनमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। एक गंभीर की अस्पताल में मौत हो गई। सभी मुरैना स्थित प्लास्टिक की पाइप बनाने वाली कंपनी से ड्यूटी खत्म कर ग्वालियर लौट रहे थे।

हादसे में जान गंवाने वाले प्रमोद कुशवाह ने घर पर कॉल कर 50 मिनट में पहुंचने की बात कही थी। घर पर पत्नी निर्मला, बेटी शिवानी (22) और बेटा विवेक (20) उनका खाने पर इंतजार कर रहे थे। कुछ देर बाद कंपनी से कॉल आया और प्रमोद की मौत की खबर मिली।

हमेशा पीछे बैठते थे, पर घटना वाले दिन आगे बैठे
प्रमोद जीप में हमेशा पीछे की सीट पर बैठते थे। जब कंपनी से वे अन्य साथियों के साथ निकले तो कुछ लोगों ने उनको आगे बैठने को कहा। जब हादसा हुआ तो ट्रक के पीछे निकला लोहे का एंगल उनके सिर में घुस गया। अस्पताल लाने से पहले ही उनकी मौत हो गई। प्रमोद के साथियों ने उनकी पत्नी निर्मला को फोन कर हादसे की खबर दी।

प्रमोद कुशवाहा। - फाइल फोटो
प्रमोद कुशवाहा। - फाइल फोटो

बेटी की शादी की चिंता थी
घायल साथी ने बताया कि प्रमोद काे सबसे ज्यादा चिंता अपने बच्चों की रहती थी। वह कहते थे कि बेटी बड़ी हो रही है। बेटा भी बराबर का हो चला है। बेटी को पढ़ा-लिखाकर इस काबिल बनाना है कि वह अपने लिए लड़ सके। साथ ही बेटी की शादी के लिए भी सोचते थे। कहते थे अच्छा घर मिल जाएगा, तभी शादी करूंगा।

घायलों को हॉस्पिटल लेकर पहुंची डायल 100।
घायलों को हॉस्पिटल लेकर पहुंची डायल 100।

30 मिनट तक ड्राइविंग सीट पर फंसा रहा ड्राइवर
हादसे के बाद मौके पर पहुंचे लोगों ने बचाव कार्य शुरू किया। टक्कर इतनी तेज थी कि जीप चला रहे ड्राइवर राशिद खान के भी सिर में लोहे का एंगल घुस गया था। उसकी मौत मौके पर ही हो गई थी। करीब 30 मिनट तक मशक्कत के बाद ड्राइविंग सीट पर फंसे राशिद का शव निकाला गया। राशिद खान 6 साल से कंपनी में काम कर रहा था। घर पर पत्नी रुखसाना और 10 साल का बेटा टप्पू है।

हर दिन कॉल करते हैं, पर हादसे वाले दिन नहीं किया
हादसे में गोठ कमानी पुल निवासी 50 साल के अनुज माहेश्वरी की भी मौत हो गई। उनके परिवार में पत्नी मीरा और बेटा हिमांशु है। अनुज रोज कंपनी से निकलते वक्त घर पर फोन करते थे और पूछते थे कि कुछ लाना तो नहीं है, लेकिन मंगलवार को निकलते समय पहली बार कॉल करना भूल गए और हादसा हो गया। हादसे के बाद रात को ही परिजन ने उनको प्राइवेट हॉस्पिटल में शिफ्ट कराया है। बुधवार दोपहर उनकी मौत हो गई।

पति घायल, पत्नी 9 महीने की गर्भवती
हादसे में एक अन्य गंभीर रूप से घायल पान पत्ते की गोठ निवासी केशव शर्मा (28) की हालत बेहद नाजुक है। घर में पत्नी साक्षी (25), बेटी प्रगति (5) है। साक्षी गर्भवती हैं और 9वां महीना चल रहा है। साक्षी को नहीं बताया गया है कि केशव की हालत गंभीर है। केशव के भाई नीरज शर्मा अस्पताल में भाग-दौड़ कर रहे हैं।

ग्वालियर में भीषण हादसा, 2 की मौत...:सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा भिड़ी तेज रफ्तार क्रूजर, 2 की मौत, 5 घायल, 2 की हालत नाजुक

खबरें और भी हैं...