पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गांवाें में इलाज और वैक्सीनेशन का इंतजाम नहीं:मुरार ब्लॉक के 126 गांव का हाल, 1.36 लाख में से 4080 के सैंपल, वैक्सीन का इंतजार

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण ने ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को चपेट में लेना शुरू कर दिया है, लेकिन गांवाें में न जांचें हाे रही हैं और न इलाज और वैक्सीनेशन के इंतजाम हैं। ग्वालियर के सिर्फ मुरार ब्लॉक में ही 126 गांव के 1.36 लाख लोगों में से पिछले नौ महीने में 4 हजार 80 लोगों की कोविड जांच हो पाई है। इसी तरह इस ब्लॉक में महज 14 हजार 781 लोगों को वैक्सीन का पहला डोज लग पाया है। पिछले 8 दिन से वैक्सीनेशन बंद है। दूसरी लहर में इन गांवाें में 163 संक्रमित सामने आए हैं।

हां, आठ दिन से वैक्सीनेशन नहीं हो रहा है
^मुरार ब्लॉक में सितंबर से अब तक 4080 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। जिनमें 163 लोग संक्रमित निकले। वैक्सीनेशन के लिए 8 दिन से कोई प्रोग्राम नहीं आया है।
- डॉ. नवीन नागर, बीएमओ, हस्तिनापुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र

दूसरा डोज कब लगेगा, अफसर बता ही नहीं रहे
^अप्रैल के पहले सप्ताह में गांव के अधिकांश लोगों को वैक्सीन का पहला डोज लगवा दिया था। दूसरे डोज के लिए डॉक्टर व अधिकारी कोई सही जवाब ही नहीं दे रहे।
- मेहरबान सिंह कुशवाह, सरपंच, गडरौली

गांवों में मोबाइल यूनिट भेजकर करा रहे जांच
^कोरोना जांच व वैक्सीनेशन को लेकर किसी स्तर पर कोई भी लापरवाही नहीं कर सकता। ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य व उप स्वास्थ्य केंद्रों पर तो जांच हो ही रही है। जरूरत महसूस होने पर मोबाइल यूनिट भेजकर भी सैंपलिंग कराई जा रही है।
- कौशलेंद्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...