पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • He Lived Gracefully All His Life, But After Retiring, The Retired SDO Was Suffocated Due To Insulting The Daughter in law.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कुछ समय पहले बहू ने पीटा भी था:जिंदगी भर शान से जिए थे, पर रिटायर होने के बाद बहू के पल-पल बेइज्जत करने से घुटन में थे रिटायर्ड SDO

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रिटायर्ड SDO का विनय नगर स्थित घर, यही वह प्रॉपर्टी है जिसको लेकर सारा विवाद था - Dainik Bhaskar
रिटायर्ड SDO का विनय नगर स्थित घर, यही वह प्रॉपर्टी है जिसको लेकर सारा विवाद था
  • ठान लिया था कि खुदकुशी कर इस घुटन से आजाद होंगे
  • एक दिन पहले लिखा सुसाइड नोट, सुबह उठकर मार ली खुद को गोली

खुद को गोली मारकर खुदकुशी करने वाले रिटायर्ड SDO के बारे में पता लगा है कि वह काफी जिंदादिल इंसान थे। नौकरी से लेकर जिंदगी के हर पल को उन्होंने शान से जिया, लेकिन उनकी जिंदगी में तूफान उनके रिटायर होने के बाद आया। रिटायर होने के बाद जब वह बिलासपुर से ग्वालियर आए तो बड़ी बहू ने उन्हें पल-पल पर बेइज्जत किया। कई बार वह इसलिए चुप रहे कि समाज में उनकी क्या इज्जत रह जाएगी, लेकिन बहू के बार-बार उनको बेइज्जत करने चोर कहने से वह घुटन में रहने लगे थे। कुछ समय से उनकी यह घुटन चेहरे पर दिखने लगी थी। यही कारण था कि उन्होंने फैसला कर लिया था कि अब वह इस तरह जिंदगी नहीं जिएंगे। बहू को समझाना मुश्किल था इसलिए उन्होंने खुद की जान देना ही मुनासिब समझा।

रात को ही लिखकर रखा था सुसाइड नोट

यह तो तय था कि 62 वर्षीय रिटायर्ड SDO राजेन्द्र सिंह राजपूत ने पहले ही तय कर लिया था कि वह यह आत्मघाती कदम उठाने वाले हैं। रात को ही उन्होंने सुसाइड नोट लिख लिया था, क्योंकि मंगलवार सुबह उठने के बाद 8.15 बजे उन्होंने अलमारी से अपनी 12 बोर बंदूक निकालकर उसमें कारतूस लगाए और खुद को गोली मार ली। सुसाइड नोट उनके पजामे की जेब से मिला है। गोली की आवाज सुनकर पत्नी बेडरूम में पहुंची तो घटना का पता लगा। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को निगरानी में लेकर मर्ग कायम कर लिया है।

कुछ दिन पहले ही साफ कर रखी थी बंदूक

रिटायर्ड SDO के मन में काफी समय से यह कदम उठाने का विचार चल रहा होगा। उनके एक रिश्तेदार से पता लगा है कि कुछ समय पहले ही उन्होंने अलमारी से अपनी लाइसेंसी 12 बोर की दोनाली बंदूक की सफाई कर उसे बाहर ही रखा था। मंगलवार सुबह घटना के बाद जब फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंची तो बंदूक की जांच में उसने दोनों बैरल में गोली लगी थी। एक नाली में जिंदा कारतूस था तो दूसरे में चली हुई गोली का खोका फंसा था। इससे साफ है कि रिटायर्ड SDO ने बंदूक को अच्छी तरह लोड किया था।

कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं

मृतक ने सुसाइड नोट में बड़ी बहू प्रीति, समधि परिमाल सिंह, बहू के भाई प्रमोद उर्फ चिंटू और मनीष को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार बताया है। जिस मकान में उन्होंने यह कदम उठाया है उसी को बहू अपने नाम पर कराना चाहती थी। घटना से लेकर शाम तक इस मामले में कोई बोलने को तैयार नहीं था। घर में माहौल गमगीन है। रिश्तेदारों का आना जाना लगा हुआ है। पुलिस भी अभी पूछताछ नहीं कर पाई है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

और पढ़ें