• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Hearing On December 4 In The Petition For Adding Section 9 (A) To The Panchayat Act, Sought Response From The Government In 4 Weeks On The Rotation System

MP पंचायत चुनाव से जुड़ी दो याचिकाएं हाईकोर्ट में...:पंचायत एक्ट में सेक्शन 9 (A) जोड़ने पर लगाई याचिका में 4 दिसंबर को सुनवाई, रोटेशन प्रणाली पर शासन से मांगा 4 सप्ताह में जवाब

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • - डबल बेंच में सुना जाएगा मामला

मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव से जुड़ी हुई बड़ी खबर सामने आ रही है। पंचायत चुनाव का मामला अब ग्वालियर हाईकोर्ट की डबल बेंच में पहुंच चुका है। पंचायत अधिनियम में किए गए संशोधन को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है, जिसमें बताया गया है कि यह संसोधन संविधान की धारा 243 से कवर्ड नहीं है। इस मामले में 4 दिसंबर को सुनवाई संभावित है। इसके अलावा एक अन्य याचिका जिसमें अध्यादेश को चुनौती देने के साथ ही रोटेशन प्रणाली लागू करने की मांग की गई है। इसमें हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से चार सप्ताह में जवाब मांगा है।
हाईकोर्ट में पंचायत चुनाव से जुड़ी याचिका को पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता राजीव शर्मा द्वारा दायर किया गया है। 21 नवंबर को मध्य प्रदेश पंचायत राज और ग्राम स्वराज्य संशोधन अध्यादेश पारित किया गया है। अध्यादेश के माध्यम से पंचायत एक्ट में सेक्शन 9 (A) को जोड़ा गया है। जिसे याचिका में नियम विरुद्ध बताया गया है। वहीं इसी मामले से जुड़ी हुई एक और याचिका दायर हुई है। जिसमें कल्लूराम सोनी नाम के व्यक्ति ने अध्यादेश को चुनौती दी है। जिसमें उन्होंने रोटेशन प्रणाली लागू करने की मांग उठाई है, क्योंकि सरकार ने पुरानी व्यवस्था पर चुनाव कराने की मंशा जाहिर की है ऐसे में इस याचिका को दायर करते हुए गुरुवार को हुई सुनवाई में 4 सप्ताह में सरकार से जबाब मांगा है।
गौरतलब है कि पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता राजीव शर्मा द्वारा दायर याचिका पर शनिवार ( 4 दिसंबर) को मध्य प्रदेश के चीफ जस्टिस ग्वालियर बेंच में सुनवाई करेंगे। इसमें खुद सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राज्यसभा सांसद विवेक तंखा पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता राजीव शर्मा के साथ मामले में पैरवी करेंगे। ऐसे में 4 दिसंबर को होने वाली सुनवाई पंचायत चुनाव से जुड़ी याचिका के लिए बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है। क्योंकि एक और जहां सरकार पंचायत चुनाव को जल्द कराने की बात कह रही है तो वहीं कांग्रेस लगातार सरकार की इस मंशा पर सवाल खड़े करते हुए आरोप लगा रही है कि सरकार पंचायत चुनावों को टालना चाहती है।
दोनों पार्टियों की सियासत न्यायालय की दहलीज पर पहुंची
- प्रदेश की भाजपा सरकार लगातार जल्द पंचायत चुनाव को कराने की बात कह रही है, जबकि कांग्रेस लगातार उनकी इस मंशा पर सवाल खड़े कर आरोप लगा रही है कि सरकार पंचायत चुनावों को टालना चाहती है। ऐसे में इन दोनों दलों की सियासत न्यायालय की दहलीज पर पहुंच गई है। मामले पर क्या तस्वीर सामने आती है यह आने वाले समय में तय हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...