पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम:उमस ने किया बेचैन, 6 साल बाद जुलाई में पारा 39 डिग्री

ग्वालियरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र नहीं बनने के कारण ग्वालियर सहित अंचल में जोरदार बारिश नहीं हो सकी है। बादल डेरा डालते हैं लेकिन उन्हें नमी नहीं मिल पा रही। इस कारण बिना बरसे ही बादल छंट जाते हैं। शनिवार को थाटीपुर और लश्कर क्षेत्र में बूंदाबांदी हुई, लेकिन गर्मी से राहत नहीं मिल सकी। दिन भर उमस ने बेचैन किया। 6 साल बाद ऐसा हुआ है जब जुलाई में दिन का तापमान 39 डिग्री पहुंचा है।

इससे पहले 3 जुलाई को अधिकतम तापमान ने 38 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया था। जुलाई 2014 में 5 दिन अधिकतम तापमान 40 डिग्री के पार रहा जबकि इस साल दो दिन। शनिवार को अधिकतम तापमान 1.2 डिग्री बढ़त के साथ 39 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 5.2 डिग्री अधिक रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 1.5 डिग्री बढ़त के साथ 28.5 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 3 डिग्री अधिक रहा। मौसम वैज्ञानिक डीपी दुबे के अनुसार अरब सागर से नमी आ रही है। साथ ही राजस्थान और ग्वालियर के बीच कन्वर्जेंस जोन (नमी एकत्र होना) बना हुआ है। इससे रविवार को बारिश की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं...