• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • In charge Minister Silavat Said There Is No More Sacred Work Than Giving Artificial Limbs And Equipment On The Birthday Of The Prime Minister, The Life Of The Disabled Brothers Will Be Easier Than This

JAH में दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग व उपकरण बांटे:प्रभारी मंत्री सिलावट बोले- प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर कृत्रिम अंग व उपकरण देने से ज्यादा पवित्र काम कोई दूसरा नहीं है

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिव्यांग को ट्राई साइकिल भेंट करते प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, साथ में हैं सांसद विवेक शेजवलकर - Dainik Bhaskar
दिव्यांग को ट्राई साइकिल भेंट करते प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, साथ में हैं सांसद विवेक शेजवलकर

ग्वालियर में सोमवार दोपहर जिले के प्रभारी, जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने दिव्यांग जनों को कृत्रिम अंग व उपकरण बांटे हैं। दिव्यांगों को कृत्रिम अंग देते समय प्रभारी मंत्री सिलावट काफी भावुक नजर आए। उनका कहना था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस 17 सितंबर से 7 अक्टूबर तक विभिन्न कार्यक्रम किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में दिव्यांग भाइयों को कृत्रिम अंग व उपकरण दिए गए हैं। इससे पवित्र काम कोई और नहीं हो सकता है। मेरा मानना है कि उससे उनकी जिंदगी कुछ आसान हो जाएगी।

दिव्यांगों को कृत्रिम अंग व उपकरण कार्यक्रम में शामिल हुए प्रभारी मंत्री
दिव्यांगों को कृत्रिम अंग व उपकरण कार्यक्रम में शामिल हुए प्रभारी मंत्री

सोमवार को जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के सामने दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र में कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री व जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद ग्वालियर विवेक नारायण शेजवलकर, पूर्व विधायक मदन कुशवाह, भाजपा जिलाध्यक्ष शहर कमल माखीजानी विशेष रूप से शामिल रहे। कार्यक्रम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस पर दिव्यांगों को कृत्रित अंग व मदद के लिए उपकरण बांटने का था। यहां दिव्यांगजन को उनके अनुसार उपकरण व कृत्रिम अंग बांटे गए। जिस पर दिव्यांगजन काफी खुश नजर आए। उनका कहना था कि इससे उनको काफी मदद मिलेगी।
कार्यक्रम के अंत में प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट का कहना था कि देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर दिव्यांगजन को कृत्रिम अंग और उपकरण बांटने का पवित्र और नेक काम किया गया है। भारतीय जनता पार्टी का हर एक कार्यकर्ता प्रधानमंत्री के सपने को साकार करने के लिए युद्ध स्तर पर मेहनत कर रहे हैं।
2 साल बाद मिली बैसाखी
कार्यक्रम में पैरों से दिव्यांग तिलक लक्षकार ने बताया कि सन 2019 में उनका परीक्षण हुआ था। उसके बाद उन्हें बताया गया था कि शासन की तरफ से उन्हें बैसाखी मिलेगी। अब जाकर उनको बैसाखी मिली है। जब उनसे पूछा गया कि अब उन्हें कैसा लग रहा है तो उनका कहना था कि बैसाखी लेकर वह खुश हैं। अब वह डंडा छोड़कर बैसाखी पर चलेंगे। इसी तरह ट्राई साइकिल लेकर धर्मेन्द्र ने खुशी जाहिर की है। उनका कहना है कि इससे उनके जीवन की कठिनाई कुछ हद तक कम होगी।

खबरें और भी हैं...