• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • In Gwalior, There Will Be A Record Of Geological Movement Within A Radius Of 250 Km, Modern Equipment Has Been Installed In The Meteorological Center

भूकंप वेधशाला तैयार:ग्वालियर में अब 250 किमी के दायरे की भू-गर्भीय हलचल हो सकेंगी रिकाॅर्ड, मौसम विज्ञान केंद्र में लगाए गए हैं आधुनिक उपकरण

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वेधशाला के लिए कनाडा से आए हैं आधुनिक उपकरण - Dainik Bhaskar
वेधशाला के लिए कनाडा से आए हैं आधुनिक उपकरण
  • वेधशाला के लिए कनाडा से आए हैं आधुनिक उपकरण
  • इन उपकरणों की सहायता से न केवल ग्वालियर बल्कि आसपास के 250 किमी के क्षेत्र में होने वाली भू-गर्भीय हलचल का डेटा मिल सकेगा

अंचल में धरती के भीतर होने वाली हलचल यानी भूकंप के झटकों की तीव्रता का अब ग्वालियर में तत्काल पता चल सकेगा। ऐसा यहां थाटीपुर स्थित मौसम विज्ञान केंद्र में स्थापित भूकंप वेधशाला में लगाए गए आधुनिक उपकरणों की मदद से संभव होगा।

इन उपकरणों की सहायता से न केवल ग्वालियर बल्कि आसपास के 250 किमी के क्षेत्र में होने वाली भू-गर्भीय हलचल का डेटा मिल सकेगा। वेधशाला का काम पूरा होते ही यहां आसपास के क्षेत्रों में खदानों में किए जाने वाले विस्फोट के साथ ही माइक्रो जोन (सूक्ष्म स्तर) के भूकंप के झटकों की जानकारी मिल सकेगी।

वेधशाला के लिए कनाडा से आए हैं आधुनिक उपकरण

केंद्र सरकार के प्रोजेक्ट के तहत भोपाल, इंदौर और गुना में भूंकप वेधशाला चालू हो गई है। अब ग्वालियर में इसे इंस्टाल करने का काम चल रहा है। इसके अलावा जबलपुर, सिवनी, छिंदवाड़ा आदि जगह भूकंप वेधशाला बन रही हैं। कनाडा से आए उपकरणों को एक निजी कंपनी द्वारा लगाया जा रहा है। इससे भूकंप की तीव्रता का पता चल जाएगा। यहां एंटीना लगाए जाने जैसे छिटपुट काम जारी है।

सूक्ष्म स्तर पर आने वाले भूकंप का पता चल जाएगा

भूकंप की वेधशाला 250 किमी के एरिया को कवर करती है। केंद्र सरकार के प्रोजेक्ट के तहत ग्वालियर सहित मध्यभारत में 42 जगह वेधशाला बन रही हैं। इसमें सूक्ष्म स्तर पर खदानों से आने वाले भूकंप का भी पता चल जाएगा। गुना, इंदौर और भोपाल में शुरू हो चुकी है।
-वेदप्रकाश सिंह, मौसम वैज्ञानिक

खबरें और भी हैं...