• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • In Search Of Those Who Robbed 450 Grams Of Gold From The Trader, The Police Searched 100 CCTV Cameras, Found Half Off Due To Poor Or No Electricity

ग्वालियर में लगे CCTV का सच:व्यापारी से सोना लूटने वालों की तलाश में पुलिस ने खंगाले 100 CCTV कैमरे, आधे खराब या बंद मिले

ग्वालियर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लूट का शिकार व्यापारी शैलेंद्र। - Dainik Bhaskar
लूट का शिकार व्यापारी शैलेंद्र।

ग्वालियर में सराफा कारोबारी से हुई 450 ग्राम सोना लूट के मामले में बदमाशों का कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस ने शहर में लगे 100 से ज्यादा CCTV कैमरे खंगाले भी लेकिन उनमें साफ और सटीक फुटेज नहीं मिले हैं। कारण है कि शहर की सुरक्षा के लिए छह साल पहले लगाए गए ज्यादातर कैमरे खराब हो गए हैं।

किसी का एंगल अलग सेट नहीं है। इतना ही नहीं कुछ निजी CCTV कैमरे भी खंगाले गए, लेकिन घटना के समय वहां बिजली का फॉल्ट हो गया था जिस कारण अधिकांश कैमरे बंद थे। अब पुलिस ने लुटेरों का सुराग लगाने किलागेट से लेकर फूलबाग तक कुछ और CCTV भी देखे है। अस्पष्ट फुटेज भी मिले हैं। बदमाशों का रूट तलाशने के लिए पुलिस की चार अलग-अलग टीमें भी बना दी हैं।
यह हुई थी लूट की पूरी घटना
शहर के श्रृति इनक्लेब में रहने वाले शैलेन्द्र गोयल सराफा व्यवसायी हैं। उनकी किलागेट मस्जिद के पास ज्वेलरी शॉप है। रविवार रात 8 बजे रोज की तरह उन्होंने दुकान बंद की और बाइक से घर के लिए निकले। रोज वह दुकान में जितना भी सोना-चांदी होता है उसे बैग में लेकर घर आते हैं। उनके पास दो बैग थे। अभी घर से वह करीब 200 मीटर ही दूर रह गए थे कि कब्रिस्तान के पास बाइक सवार तीन बदमाशों ने उन्हें ओवरटेक कर रोका। बदमाशों ने बैग छीनने का प्रयास किया, लेकिन व्यापारी ने बैग नहीं छोड़ा। इसी समय एक्टिवा पर सवार होकर दो बदमाश और आ गए। उन्होंने व्यापारी को पटक कर सिर पर कट्‌टे या पिस्टल के बट से कई वार किए फिर बदमाश उनसे बैग छीनने लगे। इस दौरान बदमाशों ने फायरिंग कर दहशत फैला दी और बैग लूटकर ले गए थे। जिससे व्यापारी को चोट भी आई थी। घटना के बाद तत्काल व्यापारी ने पुलिस और परिजन को खबर दी। परिजन मौके पर पहुंच गए थे और सनसनीखेज लूट का पता चलते ही पुलिस अफसर भी मौके पर पहुंच गए थे। पुलिस ने लूट का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी थी।
दो तरफ भागे बदमाश
वारदात के बाद आधे बदमाश फूलबाग की तरफ तो आधे किलागेट की तरफ भाग निकले। वारदात के बाद पुलिस टीम मौके पर पहुंची और बदमाशों की तलाश में जुट गई। कुछ स्थानों पर बदमाशों के फुटेज भी मिले हैं, लेकिन वह इतने धुंधले हैं कि उससे पहचान होना मुश्किल है। पंद्रह करोड़ में लगे थे सीसीटीवी कैमरे
शहर के 569 स्थानों पर वारदातों को रोकने के लिए पंद्रह करोड़ रुपए की कीमत में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। जिसमें कुछ कैमरे इतनी अच्छी क्वालिटी के हैं कि 80 से 100 की रफ्तार से निकलने वाले वाहनों की नंबर प्लेट तक रीड कर लेते हैं। साथ ही शहर के मुहानों तथा व्यस्त बाजारों में इन कैमरों को लगाया गया था। पर कुछ पुराने हैं उनके लैंस खराब हो चुके हैं और उनका डायरेक्शन भी सही नहीं है।
यह है कैमरों की स्थिति
जिले में अभी 569 कैमरे लगे हैं, जिनमें फिलहाल 305 कैमरे चालू हैं और अभी 264 कैमरे बंद पड़े हुए हैं। बंद कैमरों को सुधारने का काम चालू है और जल्द ही सभी कैमरे पहले की तरह काम करने लगेंगे। पर जब तक यह कैमरे सही होंगे और इस तरह की वारदात हो जाती है तो उसके लिए कौन जिम्मेदार होगा।
व्यापारियों ने दिया एसएसपी को ज्ञापन
- व्यापारियों ने लूट की घटना के बाद सोमवार को चेंबर ऑफ कॉमर्स और सोना-चांदी व्यापारी संघ के सदस्याओं और पदाधिकारियों के साथ मिलकर एसएसपी अमित सांघी को ज्ञापन देकर लुटेरों को जल्द पकड़ने की मांग की है। साथ ही व्यापारियों की सुरक्षा के लिए सड़कों पर पु लिस की उपस्थिति बढ़ाने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...