पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Increased Carelessness With Infection; Staff Are Busy At Some Places On The Entry Points Of The City, If They Disappear

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रियलटी चेक:संक्रमण के साथ बढ़ती लापरवाही; शहर के एंट्री नाकों पर कहीं स्टाफ गायब तो कहीं बातों में व्यस्त

ग्वालियर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • निरावली पर बनना था चेकिंग प्वाइंट, अधिकारियों ने बनाया पुरानी छावनी थाने पर

संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए प्रशासन दावे कितने ही करे, हकीकत ये है कि ये सभी व्यवस्थाएं मैदानी क्षेत्र में दम तोड़ रही हैं। दूसरे शहरों से संक्रमित व संदिग्ध मरीजों को रोकने के लिए प्रवेश द्वारों पर बनाए गए चेकिंग नाकों का मकसद जरा भी पूरा नहीं हो रहा है। स्थिति ये है कि किसी चेकिंग नाके से तैनात स्टाफ गायब है तो किसी पर बैठा स्टाफ मोबाइल फोन से टाइम पास कर रहा है। ऐसे में कौन व्यक्ति कहां से आ रहा है? उसमें कोरोना संक्रमण के लक्षण हैं या नहीं? इसकी जांच ही नहीं हो पा रही। सबसे बड़ी बात ये कि शहर में आने वाली बसों की भी चेकिंग नहीं की जा रही। जिनमें क्षमता से ज्यादा सवारियां भरी जा रही हैं लेकिन मास्क लगाने पर कोई जोर नहीं दिया जा रहा।

दैनिक भास्कर रिपोर्टर ने इन चेकिंग नाकों पर हकीकत जानी, तो स्थिति चौंकाने वाली सामने आई...जिसे देखने पर कहा जा सकता है कि इस लचर व्यवस्था में “संक्रमण’ का परिवहन बेधड़क हो रहा है। इस मामले में कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि एंट्री प्वाइंट पर नाके संदिग्ध मरीज व संक्रमितों को रोकने और उनकी मॉनिटरिंग के लिए बनाए गए हैं। यदि वहां तैनात स्टाफ इस तरह की लापरवाही कर रहा है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मैं दूसरे अधिकारियों से चेकिंग नाकों की रिपोर्ट दिखवाता हूं।

बरेठा, समय- दोपहर 1.18 बजे: भिंड, इटावा की तरफ से आने वाले लोगों की जांच के लिए बरेठा पुल के नीचे चेकिंग पाइंट लगाया गया है। यहां राजस्व, स्वास्थ्य विभाग और पुलिस कर्मचारी तैनात किए गए हैं। लेकिन मौके पर सिर्फ टेंट और उसमें रखीं खाली कुर्सी ही मिलीं। टेबल पर बंद रजिस्टर व थर्मल स्क्रीनिंग मशीन लावारिस की तरह रखी हुई थी। स्टाफ का कोई भी व्यक्ति यहां नहीं था। हमने जब वहां फोटो खींचना शुरू किए तो एएसआई राघवेंद्र पुरोहित आ गए और बोले- स्टाफ तो था अभी यहीं चला गया होगा। करीब 15 मिनट मौके पर रुककर देखा गया तो न स्टाफ आया और न किसी गाड़ी की चेकिंग हुई। भास्कर रिपोर्टर ने जब एक बस को रोका तो कंडक्टर मास्क नीचे करके यात्रियों से पैसे ले रहा था।
रायरू नाका झांसी बायपास, समय- दोपहर 1. 48 बजे: कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने रायरू नाके पर चेकिंग प्वाइंट लगाने के लिए आदेश दिए थे। यहां मुरैना, धौलपुर व आगरा, दिल्ली तरफ से आने वालों की जांच होनी थी। लेकिन यहां कोई चेकिंग पाइंट नहींं बनाया गया। मुरैना जिला प्रशासन ने जरूर अपनी साइड पर चेकिंग नाका बनाया है जहां सवारी वाहन व चार पहिया वाहनों में बैठे लोगों की जांच की जा रही है।
पुरानी छावनी थाना, समय- दोपहर 1. 59 बजे: मुरैना रोड स्थित पुरानी छावनी पुलिस थाने के बाहर ग्वालियर प्रशासन का चेकिंग पाइंट लगा हुआ है। यहां दो कर्मचारी तैनात मिले, लेकिन ये लाेग वाहनों को रोकने और जांच करने की जगह अपने मोबाइल फोन में व्यस्त दिखे। फोटो खींचे जाने पर रजिस्टर खोल लिया और बताया कि हम सिर्फ दूसरे प्रदेशों वाले वाहनों को रोककर उनमें सवार लोगों की जांच कर रहे हैं। मतलब साफ कि जो मुरैना, धौलपुर, दिल्ली, आगरा, मथुरा आदि स्थानों से शहर में आ रहे हैं उनको न रोका जा रहा है न कोई जांच हो रही।
मकसद: संदिग्ध मरीजों की पहचान कर उन्हें रोकना
एंट्री पाइंट पर चेकिंग नाके लगाए जाने के पीछे मकसद ये था कि दूसरे शहरों से आने वाले लोगों की जांच होे। उनमें से जिन लोगों के शरीर का तापमान थर्मल स्क्रीनिंग में ज्यादा आएगा। उन लोगों के नाम, पते व नंबर नोट करके संबंधित इंसीडेंट कमांडर्स को दिए जाएं ताकि, वे उनकी मॉनिटरिंग कराकर जांच कराएं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें