पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Liquor Contractor's Son Fired Bullets At Himself From His Own Friends To Implicate Enemies, Got Trapped Due To Hasty Planning, 2 Arrested

क्राइम पेट्रोल देखकर रची साजिश:ग्वालियर में शराब ठेकेदार के बेटे ने दुश्मनों को फंसाने के लिए खुद पर चलवाईं गोलियां, फायरिंग करने वाले दोस्त ने खोली पाेल

ग्वालियरएक महीने पहले
औरेंज टी-शर्ट में खड़ा शराब ठेकेदार का बेटा अन्नू शिवहरे, जिसने खुद पर झूठे हमले की साजिश रचि

ग्वालियर में शराब ठेकेदार के बेटे ने क्राइम पेट्रोल सीरियल देखकर अपने दुश्मनों को फंसाने की साजिश रच ली। एक बार तो पुलिस ने भी इस फर्जी हमले को सच मान लिया और FIR भी कर ली। मामला तब खुला जब पुलिस को यह पता चला कि जिस पर हमला करने का आरोप लगाया है, वह तो उस दिन ग्वालियर में था नहीं। इसके बाद जब पुलिस ने कड़ी पूछताछ की तो हमला करने वालों ने पूरी कहानी बयां कर दी।

इस फर्जी कहानी का डायरेक्टर और हीरो शराब ठेकेदार का बेटा अन्नू शिवहरे था। घटना के 48 घंटे बाद पुलिस ने अन्नू को गिरफ्तार कर पूरी कहानी का खुलासा किया। अन्नू ने अपने दुश्मनों को फंसाने के लिए खुद पर हमले की झूठी साजिश रची, पर हमला हकीकत में करवाया गया, जिसमें हर सबूत और गवाह मौजूद रहे। यह पूरा तरीका उसने एक क्राइम इंवेस्टीगेशन सीरियल 'क्राइम पेट्रोल' से सीखा। फिलहाल, अन्नू सहित इस मामले में दो आरोपी पकड़े जा चुके हैं। शेष की तलाश की जा रही है।

इस CCTV फुटेज से पुलिस को वारदात पर यकीन हुआ था, इसी से झूठे हमले की पोल भी पुलिस ने खोली।
इस CCTV फुटेज से पुलिस को वारदात पर यकीन हुआ था, इसी से झूठे हमले की पोल भी पुलिस ने खोली।

यह बताई थी पूरी घटना

गांधीनगर निवासी अन्नू शिवहरे शराब ठेकेदार रिंकू शिवहरे का बेटा है। सोमवार शाम झांसी रोड थाना पुलिस को उसने खुद पर हमला होने की सूचना दी थी। अन्नू ने पुलिस को बताया था कि अचलेश्वर मंदिर चौराहा पर अपनी कार से आया और जूस लेकर कार में AC चलाकर पीने लगा। इसी समय 6 से 8 लोग 3 बाइक पर सवार होकर आए और हमला कर दिया। बदमाशों ने पहले कार के कांच तोड़े। इसके बाद 3 से 4 गोलियां हवा में चलाईं। फिर एक गोली कार की तरफ मारी। जो कार के कांच में लगी। इसके बाद हमलावर हवा में कट्‌टे लहराते हुए भाग गए।

दिनदहाड़े खुलेआम सड़क पर दहशत फैलाने और गोलीबारी की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने स्थिति को संभाला। कार और अन्नू को थाने ले आए। अन्नू ने हमला करने वालों की पहचान गोलू तोमर और सारांश तिवारी के रूप में की थी। पुलिस ने दोनों को मामला दर्ज कर जांच शुरू की। घटना की पुष्टि वहां लगे CCTV कैमरे की फुटेज से हुई थी।

ऐसे खुली फर्जी हमले की पोल

पुलिस ने गोलू और सारांश की तलाश शुरू की। गोलू तोमर को उसके परिजन खुद लेकर SP ऑफिस पहुंच गए। परिजन ने पुलिस कप्तान को बताया कि जिस समय अन्नू हमले की बात कह रहा है। गोलू भिंड में था। वहां कार्यक्रम के फुटेज, रास्ते पर टोल के फुटेज दिखाए। इसके बाद पुलिस का माथा ठनका। पुलिस ने स्पॉट के CCTV फुटेज बारीकी से चेक किए तो एक हमलावर बंटी भदौरिया की पहचान हुई। वह अन्नू का दोस्त है। पुलिस ने बंटी को उठाया तो उसने थाने में इस फिल्मी और फेक हमले की पूरी पोल खोल दी। उसने बताया कि शराब ठेकेदार के बेटे अन्नू शिवहरे की गोलू तोमर व सारांश से दुश्मनी थी। मेरा भी इनसे झगड़ा था, इसलिए अन्नू के कहने पर हमने यह झूठा हमला अपने ही दोस्तों से करवाया। इन दोनों से उसकी क्लब हाउस में बहस हुई थी, इसलिए वह इनको सबक सिखाना चाहता था।

अन्नू को बयान के लिए थाने बुलाया और गिरफ्तार किया

पूरी कहानी सामने आने के बाद झांसी रोड थाना पुलिस ने अन्नू को बयान के बहाने बुलाकर हिरासत में ले लिया है। पुलिसिया अंदाज में पूछताछ में उसने भी पूरी घटना कबूल की है। अन्नू ने बताया कि कुछ समय पहले क्राइम पेट्रोल सीरियल में इस तरह खुद पर हमला कर दुश्मनों को फंसाने का एपिसोड देखा था। वहीं से यह आइडिया आया।

यहां चूक हो गई प्लानिंग में

  • अन्नू के सीधे अचलेश्वर पहुंचे ही हमलावर आए और दनादन गोलियां चला दीं, क्या वह पहले से जानते थे कि यह वह आने वाला है, जबकि वह कोई फिक्स पॉइंट नहीं था
  • बदमाशों ने कार में बैठे अन्नू पर सीधे गोलियां क्यों नहीं मारीं
  • सिर्फ कांच तोड़कर ही चले गए, जबकि अन्नू ने गोली कार के कांच में मारना बताई
  • घटना के लिए ऐसे स्थान को चुनना जहां CCTV कैमरे लगे हो
  • अचलेश्वर चौराहा पर पहुंचकर जूस लेने और हमला होने के बाद थाने तक आने में सिर्फ 10 मिनट का समय लगा। इतनी तेजी तो तभी हो सकती है जब पहले सब तैयार हों
खबरें और भी हैं...