• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Marriage Certificate Not Made From Gwalior Even After A Quarter Of A Year; When The Matter Caught Fire, ADM Spoke To The Canadian Embassy, Sought NOC

कैनेडियन बहू की उलझन होगी कम:ग्वालियर से सवा साल बाद भी नहीं बना मैरिज सर्टिफिकेट; ADM ने की कैनेडियन एम्बेसी से बात, मांगी NOC

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनुप्रीत कौर अपने पति नवजोत को कनाड़ा ले जा सकेंगी। - Dainik Bhaskar
अनुप्रीत कौर अपने पति नवजोत को कनाड़ा ले जा सकेंगी।

कैनेडियन बहू को मैरिज सार्टिफिकेट के लिए बार-बार कलेक्ट्रेट के चक्कर लगवाने और पति को कनाडा न ले जा पाने के मामले ने सोशल मीडिया पर तूल पकड़ लिया है। इस मामले में कलेक्ट्रेट के बाबू के रुपए मांगने और कैनेडियन बहू के परेशान करने के आरोप पर अब जिला प्रशासन को जवाब नहीं देते बन रहा है। अब इस मामले को जिला प्रशासन जल्द से जल्द सुलझाना चाहता है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह के निर्देश पर मंगलवार को ADM एचबी शर्मा ने इस मामले में कैनेडियन एम्बेसी से संपर्क किया है। उन्होंने एम्बेसी से अनुप्रीत कौर के मामले में NOC मांगी है। एम्बेंसी ने जल्द कलेक्टर ग्वालियर के ईमेल पर NOC भेजने की बात कही है। जिसके बाद मैरिज सार्टिफिकेट बन जाएगा और अनुप्रीत कौर अपने पति नवजोत को कनाड़ा ले जा सकेंगी।

कलेक्ट्रेट में मैरिज सार्टिफिकेट के लिए बैठी कैनेडियन बहू और उसका पति
कलेक्ट्रेट में मैरिज सार्टिफिकेट के लिए बैठी कैनेडियन बहू और उसका पति

यह है पूरा मामला
ग्वालियर के पास गोहद (भिंड) निवासी नवजोत सिंह रंधावा (27) शेफ है। इससे पहले वह रसिया के एक बड़े होटल में शेफ हुआ करते थे। इसी दौरान उनकी मुलाकात अपनी एक रिश्तेदार के जरिए भारतीय मूल की कैनेडियन अनुप्रीत कौर (40) से हुई थी। सोशल मीडिया पर दोनों की दोस्ती हुई। अनुप्रीत बीते 20 साल से कनाड़ा में अपनी नानी के साथ रह रही हैं। साथ ही वह कनाड़ा की बेथम ब्रेक कंपनी में बतौर प्रोडक्शन इंजीनियर पदस्थ हैं। पहले पति से उनका तलाक हो चुका है। नवजोत सिंह रंधावा उम्र मंे उनसे काफी छोटे हैं, लेकिन दोनों ने एक दूसरे को अपने लिए चुना। दोनों परिवारों को भी रिश्ते से कोई आपत्ति नहीं थी। इसलिए ग्वालियर के किला स्थित गुरुद्वारा दाताबंदी छोड़ पर 7 नवंबर 2020 में दोनों की अरेंज मैरिज हुई। गुरुद्वारा से सार्टिफिकेट भी मिल गया। इसके बाद नए कपल ने ग्वालियर के कलेक्ट्रेट मंे मैरिज सार्टिफिकेट के लिए एप्लाई किया। बस यहीं से उनके खुशहाल जीवन में परेशानियों में इजाफा होना शुरू हो गया। इस दौरान अनुप्रीत ने एक बेटी को भी जन्म दिया। वहां कनाड़ा में बेटी के बर्थ सार्टिफिकेट पर भी पिता के नाम पर नवजोत सिंह का नाम है। पर यहां का प्रशासन मैरिज सार्टिफिकेट नहीं बना रहा है।

मैरिज सार्टिफिकेट ने अटका रखा है स्पाउस वीजा
नवंबर 2020 में ही अनुप्रीत और नवजोत सिंह ने कलेक्ट्रेट में मैरिज सार्टिफिकेट के लिए आवेदन कर दिया था, लेकिन आज तक बाबूओं और अफसरों ने उनका मैरिज सार्टिफिकेट बनाकर नहीं दिया है। जिस कारण महिला अपने पति का स्पाउस वीजा नहीं बनवा पा रही है। कलेक्ट्रेट में कभी कोई दस्तावेज मांगते हैं तो कभी कोई। पति भिंड से अपने सारे दस्तावेज दे चुका है। महिला कैनेडियन एम्बेसी से सारे दस्तावेज ला चुकी है। इसके बाद भी लगातार कमियां निकाली जा रही हैं।

जो पहले करना था वो अब किया
मंगलवार को यह मामला सोशल मीडिया पर काफी चर्चित हुआ। एक NRI बहू की कहानी ग्वालियर से लेकर दिल्ली तक पहुंच गई। यहां जब ग्वालियर जिला प्रशासन की छिछली हुई तो अफसर हरकत में आए। ADM एचबी शर्मा ने तत्काल अनुप्रीत कौर के मामले में कैनेडियन एम्बेसी से संपर्क किया और NOC के संबंध में चर्चा की। वहां के अफसरों ने भी पॉजिटिव रिस्पोंस दिया है। जल्द ही ग्वालियर कलेक्टर के ईमेल पर NOC भेजने की बात कही है। अब जल्द ही कैनेडियन अनुप्रीत अपने शेफ पति को कनाड़ा ले जा पाएगी।

खबरें और भी हैं...