पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Most Of The Roads Are Bad, Repair Work Will Be Closed From June 15, Problems May Increase In Rain

सिर्फ 15 दिन बचे:ज्यादातर सड़कें खराब, 15 जून से बंद हाे जाएगा मरम्मत का काम, बारिश में बढ़ सकती हैं मुसीबतें

ग्वालियर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मानसिक आरोग्यशाला चौराहे से जेल रोड की खुदाई के कारण हालत खराब है। बारिश में परेशानी का कारण बनेगी। - Dainik Bhaskar
मानसिक आरोग्यशाला चौराहे से जेल रोड की खुदाई के कारण हालत खराब है। बारिश में परेशानी का कारण बनेगी।
  • निगम और लोनिवि के अफसरों ने मानसून से पहले न सड़कें दुरुस्त कीं और न नई बनाईं

ग्वालियर में 26 जून से मानसून की दस्तक के आसार हैं। नगर निगम 15 जून से खुदाई के कामों पर प्रतिबंध लगाने के साथ सड़काें के निर्माण और मरम्मत के काम बंद कर देगा, लेकिन अभी ज्यादातर सड़कों (लगभग 90) की हालत खराब है। कुछ ताे चलने लायक स्थिति में ही नहीं हैं। सवाल ये है कि यदि 15 जून के बाद इनकी मरम्मत बंद हाे जाएगी ताे बारिश में आवागमन कैसे हाेगा? दरअसल, शहर में ज्यादातर सड़कें नगर निगम एवं लोक निर्माण विभाग की हैं। दाेनाें ही विभागाें ने मानसून से पहले इनके रेस्टाेरेटेशन और बनाने पर फाेकस नहीं किया इसलिए कहीं रास्ते बंद हैं ताे कहीं लाेगाें काे बिना डामर वाले रास्ताें से निकलना पड़ रहा है।

इनमें रामदास घाटी से जेल रोड मार्ग पर निर्माण चल रहा है। सचिन तेंदुलकर मार्ग से हाइवे तक सड़क में एक सैकड़ा से ज्यादा गड्‌ढे हाे चुके हैं। थीम रोड को स्मार्ट रोड बनाने का काम चल रहा है, लेकिन अभी डक्ट के लिए खुदाई हुई है। निगम ने हाल में मुरार में सड़क को बनाने का काम शुरू कर दिया है। अफसराें का दावा है कि निगम जल्दी ही शिंदे की छावनी वाले मार्ग को बनाने का काम शुरू करने जा रहा है।

खराब सड़कों को बनाएंगे
^शहर की जो भी सड़क खराब हैं, उन्हें ठीक कराया जा रहा है। हाल में कुछ सड़कों पर काम भी शुरू हो गया है। अमृत प्रोजेक्ट में खुदी सड़कों को कंपनी द्वारा ठीक कराया जा रहा है।
-शिवम वर्मा, आयुक्त नगर निगम
फिर बनाना शुरू हो गई सड़क

^जेल रोड पर काम शुरू हो गया था, लेकिन कंपनी के लोग बीमार हो गए थे। लोगों के ठीक होने के बाद फिर से सड़क बनाने का काम शुरू कर दिया है। लोनिवि की शहर में जो भी सड़क खराब है। उसे बनाने का काम जल्दी किया जाएगा।
- आरएल भारती, मुख्य अभियंता लोनिवि

जानिए... शहर का काैन सा मार्ग कितना महत्वपूर्ण है और इस समय उसकी क्या है हालत

शिंदे की छावनी से रामदास घाटी मार्ग: यह राेड सीधे किले के पीछे बसे ग्वालियर शहर को जोड़ती है। किला पर्यटकों को दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। इस मार्ग से किले पर पर्यटक जाते हैं, लेकिन सड़क पर डामर न हाेने की वजह से बारिश में लाेगाें काे निकलने में परेशानी हाेगी। थीम रोड: यहां से मरीज जेएएच अस्पताल, माधव डिस्पेंसरी, कंपू, आमखो पहुंचते हैं। दो साल से पेच रिपेयरिंग नहीं होने से सड़क में कई जगह गड्‌ढे हैं। सचिन तेंदुलकर मार्ग से हाइवे: मुरार, हुरावली, गोविंदपुरी सहित आसपास के लोग हाइवे तक पहुंचने के लिए उक्त मार्ग का उपयोग करते हैं। यहां सड़क में कई जगह गड्‌ढे ही गड्‌ढे हैं। कलेक्ट्रेट से नेशनल हाइवे मार्ग: यहां पर बहुमंजिला इमारतें बनी हुई हैं। पानी और सीवर की लाइन के लिए सड़क खोदी गई थी। ये मार्ग सिटी सेंटर एरिया को सीधा जोड़ता है। इसके अलावा उक्त मार्ग से लोग चंद्रवदनी नाका तक पहुंच सकते हैं। गुड़ा-गुड़ी का नाका से चिरवाई नाका: पेट्रोल पंप के पास दोनों ओर की सड़क ही नहीं दिखती। बारिश के दौरान गड्‌डों में वाहन गिर जाते हैं। यह मार्ग शिवपुरी और झांसी की ओर से कंपू, लश्कर आने वाले के लिए सहूलियत देता है। गेंडेवाली सड़क: यह मार्ग लक्ष्मीगंज, जीवाजी गंज, घोसीपुरा को सीधे लश्कर से जोड़ता है। यहां से लोग शिंदे की छावनी, फालका बाजार, होते हुए विभिन्न क्षेत्रों में पहुंचते हैं। खुदाई के बाद कई जगह सड़क गायब हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...