• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Night Mercury Rises From Cloud In Gwalior, Cold Due To Lack Of Sunlight During Day, Temperature Will Drop Again After Three Days

न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री, रात को ठंड से राहत...:ग्वालियर में छाए बादल से उछला रात का पारा, दिन में धूप न निकलने से बढ़ी ठंड, तीन दिन बाद फिर गिरेगा तापमान

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रात के समय छाने लगी है हल्की धुंध, लेकिन ठंड से राहत है। धूप खुलते ही बढ़ेगी ठंड - Dainik Bhaskar
रात के समय छाने लगी है हल्की धुंध, लेकिन ठंड से राहत है। धूप खुलते ही बढ़ेगी ठंड
  • - सिस्टम बनने से लगातार बढ़ रहा रात का तापमान

ग्वालियर-चंबल अंचल में मौसम ने एक बार फिर बदलाव लिया है। सिस्टम (पश्चिमी विक्षोभ ) के कारण लगातार गिर रहे रात के न्यूनतम तापमान में उछाल आया है। बीते 48 घंटे में पारा 5.5 से 10.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। जिस कारण रात को हाड़ कपाने वाली ठंड से राहत है, लेकिन दिन में बादल छाए रहने और धूप न निकलने के कारण दिन में ठंड का अहसास हुआ है। हल्की ठंडी हवा भी चली है। यही कारण है कि अधिकतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा है।जो सामान्य से 2.1 डिसे कम रहा। इससे दिन में ठंड का अहसास रहा। मौसम विभाग के अनुसार तीन दिनों तक ठंड से राहत रहने वाली है। इसके बाद एक बार फिर ठंड जोर पकड़ेगी।
पश्चिमी विक्षोभ के चलते उत्तरी जम्मू कश्मीर की हवाओं का आना बंद हो गया है। पश्चिमी हवाएं आना शुरू हो गई हैं। मंगलवार के बाद बुधवार को भी सुबह से बादल छाए हुए हैं। बादलों के चलते न्यूनतम तापमान में उछाल आया है। रात में न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने से ठंड गायब हो गई है। पिछले दो दिन से जारी हाड़ कंपाने वाली ठंड से राहत मिल गई। मौसम विभाग के अनुसार 18 दिसंबर तक राहत रहने वाली है। जम्मू कश्मीर से आ रही ठंडी बर्फीली हवा के चलते शहर ठंड की गिरफ्त में आ गया था। बीते 48 घंटे पहले तक रात का तापमान साढ़े पांच डिग्री सेल्सियस पर आ गया था।। इस कारण रात में हाड़ कंपाने वाली ठंड से शहर कांप रहा था, लेकिन अब राहत मिल चुकी है। मंगलवार को दिन में अधिक तापमान भी 23.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। बुधवार को सुबह से ही बादल हैं इस कारण दिन के तापमान पर असर पड़ सकता है।
18 दिसंबर से फिर लौटेगी सर्दी
-पश्चिमी विक्षोभ का असर 17 दिसंबर तक रहने वाला है। इसके बाद पश्चिमी विक्षोभ का असर कम होने लगेगा और मौसम एक बार फिर बदलने लगेगा। मौसम के जानकारों की माने तो 18 दिसंबर के बाद एक बार फिर कड़ाके की ठंड का दौर शुरू हो जाएगा। रात का पारा तो लुढ़केगा ही साथ ही दिन में भी ठंडी हवा चलने से शीतल दिन आ सकते हैं।
- 18 दिसंबर तक इसका असर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। उत्तरी हवाएं फिर से चलना शुरू होंगी। दो पश्चिमी विक्षोभ के कारण कश्मीर के निचले क्षेत्रों में बर्फबारी हो सकती है, जिसकी वजह से ज्यादा ठंडी हवा का आना शुरू होगा। 25 दिसंबर तक बारिश की भी संभावना नहीं है। आसमान साफ रहने की वजह से तापमान सामान्य से 3 से 4 डिग्री नीचे दर्ज होगा। इस कारण शीत लहर का सामना करना पड़ सकता है।
25 दिसंबर तक कोहरा छाने लगेगा
- मौसम के जानकारों की माने तो अभी ग्वालियर-चंबल अंचल में कोहरा नहीं है, लेकिन आने 8 से 10 दिन में कोहरा अपनी उपस्थिति दर्ज कराएगा। संभावना है कि 25 दिसंबर के आसपास कोहरा की उपस्थिति बढ़ने लगेगी। जिसका असर यातायात पर पड़ेगा। ट्रेनों की चाल के साथ ही हाइवे पर भी वाहनों की रफ्तार कम होगी।
क्या कहते हैं एक्सपर्ट
- रडार प्रभारी मौसम केन्द्र भोपाल वेदप्रकाश सिंह ने बताया कि अभी सिस्टम के चलते बादल छाने से न्यूनतम तापमान में उछाल जारी रहेगा, लेकिन 48 घंटे के बाद फिर मौसम बदलने लगेगा। 18 दिसंबर के बाद फिर से ठंड लौटेगी और रात का पारा गिरना शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...