पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Night Temperature Rose By 1.80 To 210, Drizzling, Moisture Coming From Bay Of Bengal And Depression Over Telangana

मौसम:रात का तापमान 1.80 बढ़त के साथ 210 पर आया, कल से हो सकती है बूंदाबांदी, बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी और तेलंगाना के ऊपर बने डिप्रेशन का असर

ग्वालियर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी और तेलंगाना के ऊपर बने डिप्रेशन के चलते मंगलवार को पूरे दिन बादल छाए रहे। इससे शहर में दोपहर 3 बजे के बाद धुंध सी दिखी। बादल छाने के कारण धूल के कारण ऊपर नहीं जा सके, इससे धुंध छाई रही। मौसम विभाग के अनुसार तेलंगाना में बना डिप्रेशन निम्न दाब क्षेत्र में तब्दील हो जाएगा।

जबकि गुुरुवार को यह अरब सागर में प्रवेश करेगा। इसके बाद दक्षिण गुजरात में पहुंचते ही फिर से डिप्रेशन में तब्दील हो जाएगा। जिस कारण 16 से 19 से अंचल में गरज-चमक के साथ हल्की बारिश के आसार हैं। जबकि गुरुवार को अंचल में बूंदाबांदी भी हो सकती है।

हालांकि यह बारिश किसानों के लिए अमृत वर्षा होगी, क्योंकि इस बारिश से किसानों को पलेवा नहीं करना होगा। साथ ही बारिश के बाद तापमान में गिरावट आएगी। नवंबर के पहले सप्ताह में ही रात में हल्की सर्दी दस्तक दे देगी।

अभी ग्वालियर, गुना, शिवपुरी, अशोकनगर और नीमच को छोड़ प्रदेश के अन्य हिस्सों में मानसून सक्रिय है। 20 तक मानसून प्रदेश से विदा नहीं होगा। वहीं बादल छाने के कारण रात का पारा फिर से चढ़ गया और 21 डिग्री रिकॉर्ड हुआ। इससे रात की ठंडक गायब हो गई है।

पिछले दिन की तुलना में अधिकतम तापमान 0.9 डिग्री गिरावट के साथ 35.8 डिग्री दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान 1.8 डिग्री बढ़त के साथ 21 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 2.2 डिग्री अधिक रहा।

अंचल में हल्की बारिश और बूंदाबांदी भी हो सकती है
तेलंगाना के ऊपर डिप्रेशन बना है जो अगले 24 घंटे के दौरान निम्न दाब क्षेत्र में बदल जाएगा। वहीं गुरुवार को यह अरब सागर में प्रवेश करेगा। इसके बाद 15 अक्टूबर को दक्षिण गुजरात में पहुंचने के बाद यह फिर से डिप्रेशन में बदल जाएगा। इस सिस्टम के असर से अगले 48 घंटे के दौरान अंचल में बूंदाबांदी के आसार हैं। 16 अक्टूबर से लेकर 19 तक अंचल में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ हल्की बारिश और बूंदाबांदी भी होगी।

-वेद प्रकाश सिंह, वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक

खबरें और भी हैं...