पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Officers Shocked By 2 New Coaches Of Narrowage, 14 Months After The Train Was Stopped, As 40 Coaches And 11 Engines Are Already Dusting In The Yard

ये भी खूब रही:ट्रेन बंद होने के 14 महीने बाद आए नैरोगेज के 2 नए कोच, अफसर हैरान, क्योंकि 40 कोच और 11 इंजन यार्ड में पहले से धूल खा रहे हैं

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कालका से ट्रोला पर आया नैरोगेज का नया कोच। - Dainik Bhaskar
कालका से ट्रोला पर आया नैरोगेज का नया कोच।
  • दो साल पहले रेलवे ने दिया था नैरोगेज के 14 कोच बनाने का ऑर्डर, सप्लाई अब हुई, एक कोच बनाने में खर्च हुए 30 लाख रुपए

कोरोना संक्रमण के कारण घाटे में चल रही रेलवे में बड़ी लापरवाही सामने आई है। 14 माह पहले हमेशा के लिए बंद हो चुकी 115 साल पुरानी नैरोगेज ट्रेन के 2 नए कोच अब तैयार होकर कालका से ग्वालियर आए हैं। अब अफसर ये समझ नहीं पा रहे हैं कि इन कोच का क्या करेें। पहले से ही बंद ही बंद ट्रेन के 40 कोच और 11 इंजन रेल यार्ड में खड़े जंग खा रहे हैं। रेलवे ने 2 साल पहले 14 कोच बनाने का ऑर्डर दिया था। 2 और अभी आना बाकी है।

ट्रेन बंद होने पर भी सभी कोच का ऑर्डर निरस्त नहीं किया
नैरोगेज के 14 नए कोच बनाने का ऑर्डर 2 साल पहले दिया गया था। यह कोच कालका में तैयार हो रहे हैं। इनमें से 4 कोच बन चुके हैं। दो नए कोच तानसेन रोड स्थित ग्वालियर के पीओएच शेड में ट्रक से पहुंच चुके हैं। 10 कोच का ऑर्डर रेलवे निरस्त कर चुका है नैरोगेज का एक कोच तैयार करने में रेलवे के लगभग 30 लाख रुपए खर्च होते हैं।

अब सवाल यह खड़े हो रहे हैं कि जब नैरोगेज ट्रैक उखाड़ने का ठेका हो चुका है तो फिर इन नए कोच को रेलवे क्यों मंगवा रहा है? ये भी कहा जा रहा है कि ट्रेन बंद होने के बाद भी कोच बनाने का ऑर्डर निरस्त करना रेलवे भूल गया। गौरतलब है कि ग्वालियर-सबलगढ़-श्योपुर के बीच अप एंड डाउन में हर दिन 8 ट्रेन चलती थीं। लेकिन 23 मार्च 2020 से कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के बाद से बंद हैं।

2912.96 करोड़ से नैरोगेज लाइन, ब्रॉडगेज में तब्दील होगी

ग्वालियर से सबलगढ़ और श्योपुर के बीच 187 किमी लंबी नैरोगेज लाइन को ब्रॉडगेज में तब्दील करने के लिए 2912.96 करोड़ रुपए का बजट मंजूर हुआ है। इसके टुकड़ों में टेंडर हो चुके हैं। साथ ही नैरोगेज ट्रैक को उखाड़ने का ठेका भी चुका है।

कोच का इस्तेमाल देश में दूसरी जगह करेंगे
^दो साल पहले नैरोगेज ट्रेन के 14 नए कोच बनाने का ऑर्डर दिया गया था। इनमें से 10 कोच के ऑर्डर निरस्त करवा दिया है। केवल 4 नए कोच तैयार हुए हैं। इनमें से दो कोच आ चुके हैं। कोच बनाने के ऑर्डर तब दिए गए थे, जब नैरोगेज बंद नहीं हुई थी। नए कोच का उपयोग यदि मंडल में नहीं हुआ तो देश में जहां नैरोगेज ट्रेन चल रही है, वहां हो जाएगा।
-मनोज कुमार सिंह, पीआरओ, झांसी मंडल

खबरें और भी हैं...