पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • On Fake Offer Letter, The Nurse Who Did The Duty In The Handi Joint Department, The FIR On Babu, The Officers And The Pimp Were Released.

JAH में फर्जी कर्मचारी मामला:FIR में फर्जी ऑफर लैटर पर हड्‌डी जोड़ विभाग में युवकों को ड्यूटी कराने वाली नर्स, बाबू के नाम भी शामिल, दलाल छोड़े

ग्वालियर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यही ठग JAH में फर्जी ऑफर लैटर पर नौकरी करते हुए पकड़े गए थे। - Dainik Bhaskar
यही ठग JAH में फर्जी ऑफर लैटर पर नौकरी करते हुए पकड़े गए थे।
  • कंपू थाना पुलिस ने अभी तक चार लोगों पर किया है केस
  • दलाल अन्नू लोधी अभी भी पकड़ से दूर

9 दिन पहले फर्जी ऑफर लैटर पर हड्‌डी जोड़ विभाग में नौकरी करते हुए पकड़े गए कर्मचारी (ड्रेसर) के मामले में जेएएच के दो कर्मचारियों समेत 4 लोगों पर FIR दर्ज हो गई है। दोनों युवकों को JAH में नौकरी कराने वाली नर्स सुशीला और OPD का इंचार्ज बाबू बनवारी के नाम भी FIR में बढाए गए हैं, लेकिन दोनों युवकों को फर्जी ऑफर लैटर थमाकर नौकरी के लिए भेजने वाले दलाल और उससे जुड़े अफसरों की जांच पुलिस ने अभी तक नहीं की है। अब पुलिस इस मामले में नर्स और इंचार्ज बाबू को जल्द हिरासत में ले सकती है।

26 फरवरी को जेएएच अधीक्षक डॉ. आरकेएस धाकड़ ओपीडी का निरीक्षण करने पहुंचे थे। उस दौरान फर्जी ऑफर लैटर पर हड्‌डी जोड़ विभाग में ड्रेसर की नौकरी कर रहे राजस्थान भरतपुर निवासी अजीत सिंह लोधी और तरागंज निवासी मोहित कुमार को पकड़ा गया था। इनके पास KRH का ऑफर लेटर था। यह जेएएच के हड्डी जोड़ विभाग में काम कर रहे थे। जब नर्स सुशीला से पूछा गया, तो नर्स का कहना था कि इनको किसी अन्नू लोधी ने यहां रखवाया है। जेएएच अधीक्षक ने कहा, यह अन्नू लोधी कौन है। ऐसे ही कोई भी आकर ड्यूटी करने लगेगा क्या। इसके बाद दोनों युवकों को कंपू थाना पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है।

दोनों पर मामला दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू की। मामले में दो दिन पहले JAH के दो कर्मचारियों के नाम भी FIR में शामिल किए गए हैं। इसमें हड्‌डी जोड़ विभाग की नर्स सुशीला और OPD के प्रभारी बनवारी के नाम FIR में जोड़ दिए गए हैं, जबकि उस दिन बाबू बनवारी ने ही मामला पकड़वाया था। पुलिस ने मामले में बिना जांच के जेएएच के दो कर्मचारियों के नाम एफआईआर में बढ़ा दिए हैं, जबकि सबसे पहले दलाल अन्नू लोधी को गिरफ्तार कर पूछताछ करनी चाहिए थी।

अन्नू को पकड़ते तो खुलते राज

पकड़े गए दोनों फर्जी कर्मचारियों ने कुबूल किया था, यह फर्जी ऑफर लैटर उन्हें अन्नू लोधी ने 1.2 लाख रुपए में दिए थे। उसने ही जेएएच में दोनों की नौकरी लगवाई थी। अन्नू को पुलिस ने अभी तक नहीं पकड़ा है, जबकि मुख्य आरोपी वही था। उसके पकड़े जाने के बाद यह भी खुलासा होता कि उसकी जेएएच में किससे सेटिंग थी। पुलिस ने उसे छोड़कर जेएएच के साधारण कर्मचारियों के नाम FIR में रगड़ दिए हैं।

बिना जांच किए बढ़ाए नाम

जेएएच अधीक्षक आरकेएस धाकड़ का कहना है, मामले में पुलिस ने बिना जांच किए हमारे दो कर्मचारियों पर FIR दर्ज कर दी है, जबकि मुख्य आरोपी अन्नू लोधी फरार है। उसे पकड़ते, तो पूरे रैकेट का खुलासा होता। इस मामले में TI कंपू नरेश गिल का कहना है कि प्राथमिक जांच पर दो आरोपियों के नाम बढ़ाए गए हैं। अभी कई और नाम बढ़ने हैं।

खबरें और भी हैं...