पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • On International Women's Day, Women Loco Pilots Will Run Bundelkhand Express From Jhansi To Gwalior, Staff Will Also Be Women

महिलाओं के हवाले होगी बुंदेलखंड एक्सप्रेस:अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस को झांसी से ग्वालियर तक चलाएंगी महिला लोको पायलट, स्टाफ भी होगा महिला

ग्वालियर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रॉयल- 8 मार्च को महिला दिवस पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस को झांसी से ग्वालियर तक चलाएंगी महिला लोको पायलट, स्टाफ भी होगा महिला - Dainik Bhaskar
ट्रॉयल- 8 मार्च को महिला दिवस पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस को झांसी से ग्वालियर तक चलाएंगी महिला लोको पायलट, स्टाफ भी होगा महिला
  • महिला दिवस पर रेलवे झांसी मंडल करेगा महिलाओं का सम्मान
  • सोमवार सुबह पहुंचेगी ग्वालियर स्टेशन पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस

सोमवार, 8 मार्च को जब झांसी से बुंदेलखंड एक्सप्रेस ग्वालियर स्टेशन पर पहुंचेगी तो उसकी कमान किसी पुरूष लोको पायलट के हाथ में नहीं बल्कि झांसी की लोको पायलट कौशल्या देवी के हाथ में होगी। कौशल्या की सहायता के लिए सहायक लोको पायलट आकांक्षा गुप्ता होंगी। इतना ही नहीं पूरी ट्रेन में महिला स्टाफ होगा। ऐसा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिलाओं के सम्मान में किया जा रहा है। साथ ही यह संकेत भी होगा कि देश की आधी आबादी किसी से कम नहीं है। बीते वर्ष भी महिला दिवस पर ग्वालियर में घोसीपुरा रेलवे स्टेशन की पूरी जिम्मेदारी महिला रेल कर्मचारियों को सौंपी गई थी।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सोमवार को रेलवे में नारी सशक्तिकरण की छवि दिखेगी। महिला दिवस पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस को लोको पायलट कौशल्या देवी, सहायक लोको पायलट आकांक्षा गुप्ता झांसी से ग्वालियर लेकर आएंगी। साथ ही ट्रेन के अंदर सारा स्टाफ भी महिलाओं का रहेगा। नारी सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए झांसी मंडल से RPF महिला सिपाही व अन्य स्टाफ के नाम तय कर लिए हैं, जो सोमवार सुबह झांसी से ग्वालियर जाने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस में अपनी ड्यूटी निभाएंगे। मलतब ट्रेन चलाने वालों से लेकर सुरक्षा तक की पूरी जिम्मेदारी एक दिन महिलाओं के हाथ में होगी। झांसी पर महिला स्टाफ के ट्रेन पर सवार होने से पहले वहां उनका सम्मान भी किया जाएगा।

ग्वालियर स्टेशन पर होगा स्वागत

देश में 50 प्रतिशत आबादी महिलाओं की है, फिर भी कुछ काम ऐसे हैं जो पुरूष प्रधान माने जाते हैं। उनमें से ट्रेन चलाना और उसका संचालन करना होता है। क्योंकि इसमें काफी मेहनत और रिस्क रहता है। पर अब 21वीं सदी चल रही है। महिलाएं फाइटर प्लेन तक उड़ा रही हैं। इसलिए सोमवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर रेलवे ने तय किया है कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस का संचालन महिलाएं करेंगी। झांसी में उनका सम्मान किया जाएगा और वह ट्रेन लेकर जब ग्वालियर पहुंचेगी तो यहां उनका जोरदार स्वागत किया जाएगा।

घोसीपुरा स्टेशन का कर चुकी हैं संचालन

वर्ष 2020 में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर रेलवे ने ग्वालियर के घोसीपुरा रेलवे स्टेशन पर महिला सशक्तिकरण का परिचय दिया था। 8 मार्च 2020 को पूरे दिन घोसीपुरा रेलवे स्टेशन पर महिला स्टाफ ने सारी व्यवस्थाएं संभाली थीं। स्टेशन मास्टर से लेकर टिकट चेक करने तक की जिम्मेदारी महिलाओं के पास थी। वह प्रयोग सफल भी रहा था।