पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Orgy From March To May; February C Relief In June, Infected In The Unit For The 11th Consecutive Day In The City

काबू में काेरोना:मार्च से मई तक तांडव; जून में फरवरी सी राहत, शहर में लगातार 11वें दिन इकाई में संक्रमित

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोई भी मौत नहीं, 2 ठीक हुए एक्टिव केस सिर्फ 12

शहर में कोरोना संक्रमण का ग्राफ मार्च 2021 में जिस तेजी से ऊपर गया, उससे भी अधिक तेजी से नीचे गिर रहा है। आंकड़ों पर नजर डालें तो फरवरी 2021 में शहर में केवल 132 लोग संक्रमण की चपेट में आए थे। इसके बाद से संक्रमण का ग्राफ ऊपर चढ़ना शुरू हुआ। मार्च में 1139, अप्रैल में 21888 और मई 13552 लोग संक्रमण की चपेट में आए।

राहत की बात यह है कि जून माह में अब तक (17 जून) संक्रमण के केवल 142 केस ही मिले हैं। ये आंकड़ा इसलिए भी सुखद है क्योंकि फरवरी की तुलना जून में सैंपलिंग ढाई गुने से भी ज्यादा हुई है। 8 जून के बाद से तो संक्रमण के केस फिलहाल एक अंक में ही आ रहे हैं। इसके साथ ही जून में ठीक हुए मरीजों की संख्या भी संक्रमितों की संख्या से लगभग 5 गुना ज्यादा है। वहीं दूसरी ओर एक सुखद खबर ब्लैक फंगस को लेकर भी आई। शुक्रवार को एक भी नया मरीज नहीं मिला, जबकि 1 मरीज को अस्पताल से छुट्‌टी दे दी गई।

2170 सैंपल की जांच में केवल 4 लोग कोरोना संक्रमित निकले

शहर में कोरोना संक्रमण फिलहाल नियंत्रण में है। शुक्रवार को कुल 2170 सैंपल की जांच हुई, जिसमें केवल 4 लोग पाॅजिटिव निकले। 8 जून को संक्रमितों का आंकड़ा एक अंक में रहा था। इस दिन संक्रमितों की संख्या 5 थी। इसके बाद से लेकर 18 जून तक संक्रमितों की संख्या दहाई अंक को नहीं छू सकी है। राहत की एक और बात यह भी है कि शुक्रवार को कोरोना से किसी भी मरीज ने दम नहीं तोड़ा। कुल 2 मरीज स्वस्थ हुए। शहर में कुल एक्टिव केस की संख्या 12 है।

वायरस का व्यवहार समझना काफी मुश्किल है, इसलिए बचाव ही सर्वोत्तम उपाय है

जिस तेजी से कोविड के केस कम हुए, ये काफी सुखद है। लेकिन इसके साथ ही हमें और सावधानी बरतनी होगी, क्योंकि कई देशों में जहां वैक्सीनेशन का काम बहुत तेजी से चल रहा है और अनलॉक भी हो चुका है। वहां तेजी से कोविड के केस बढ़ने लग गए हैं। यानि की वैक्सीन लगवाने के बाद भी लोग संक्रमित हो रहे हैं। वायरस का व्यवहार समझना काफी मुश्किल है। इसलिए बचाव ही सर्वोत्तम उपाय है।
डॉ. विजय गर्ग, असिस्टेंट प्रोफेसर, जीआरएमसी, मेडिसिन विभाग

खबरें और भी हैं...