पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • People Are Moving Without Any Restriction In Red Jane, 82 Containment Zones Decreased In 8 Days But No Monitoring In Red Jane

लापरवाही:रेड जाेन में लोग बेखौफ बिना रोकटोक के आवाजाही कर रहे , 8 दिन में 82 कंटेनमेंट जोन घटे लेकिन रेड जाेन में निगरानी नहीं

ग्वालियर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कांति नगर में बने कंटेनमेंट जोन में पुलिस तो तैनात है पर वहां से निकल रहे बच्चों को रोकने का जहमत पुलिसकर्मी नहीं उठा रहा है।
  • कंटेनमेंट क्षेत्र तीन कैटेगरी में बंटने से इंसीडेंट कमांडरों ने राहत की सांस ली है

पिछले कुछ दिनों से मरीजों की संख्या में हो रही कमी से शहरी क्षेत्र में अब कंटेनमेंट जोन घटते जा रहे हैं। आठ दिन में इनकी संख्या अधिकतम 418 से घटकर 336 तक पहुंच गई है। कंटेनमेंट क्षेत्र तीन कैटेगरी में बंटने से इंसीडेंट कमांडरों ने राहत की सांस ली है। अब सिर्फ 10 दिन निगरानी हो रही है। पहले पांच दिन मरीज न मिलने पर रेड जोन, अगले पांच दिन मरीज उतने ही रहने पर येलो जोन व इसके बाद ग्रीन जोन तय है। रेड जोन में निगरानी पुलिस के जिम्मे है जबकि येलो जोन में शिक्षक और ग्रीन जोन में निगरानी की व्यवस्था नहीं की गई है। ग्रीन जोन में सिर्फ सूचना चस्पा कर दी जाती है, लेकिन रेड जाेन में निगरानी ठीक तरीके से नहीं हाे रही है।
कंटेनमेंट जाेन बनाने के बाद बैरिकेड लगाने के बाद पुलिस एेसे स्थानाें पर पहुंच ही नहीं रही है अाैर न ही लाेगाें की अावाजाही काे प्रतिबंधित किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि कंटेनमेंट क्षेत्र में 31 जुलाई तक आवाजाही पर रोक थी। इसके बाद आदेश में कोई संशोधन नहीं किया गया है।
कंटेनमेंट की घटती संख्या
दिनांक कंटेनमेंट

  • 24 जुलाई 418
  • 25 जुलाई 414
  • 26 जुलाई 410
  • 27 जुलाई 400
  • 28 जुलाई 386
  • 29 जुलाई 372
  • 30 जुलाई 363
  • 31 जुलाई 336

परेशानी: जिन घराें में संक्रमित मिले वहां भोजन सप्लाई नहीं हो पा रहा

कंटेनमेंट जोन बनाने के बाद सील किए गए घरों में फूड सप्लाई सिस्टम ठप है। कंटेनमेंट जोन बनाते वक्त कितने घरों को सील करना है और कितनों को छोड़ना है, उसे लेकर भी समस्या सामने आ रही है। दर्पण कॉलोनी में एक परिवार में कुछ लोग कोरोना पॉजिटिव निकले थे तो उस घर के दायीं तरफ के 7 घरों को बैरिकेड लगाकर सील कर दिया गया, लेकिन बायीं तरफ के एक भी घर को कंटेनमेंट जोन के तहत सील नहीं किया जबकि नियमानुसार जिस घर में कोरोना पॉजिटिव मरीज निकलते हैं, उस घर के दायीं और बायीं दोनों तरफ के 5-5 घरों तक बैरिकेड या रस्सी से कवर कर इलाके को सील किया जाता है।

इंसीडेंट कमांडरों और टीसी के बीच विवाद
नगर निगम के टीसी की ड्यूटी कंटेनमेंट जोन में आने वाले घरों में फूड सप्लाई करने के लिए लगाई गई है। सब्जी और राशन सप्लाई की जिम्मेदारी टीसी काे दी गई है लेकिन ज्यादातर कंटेनमेंट जोन में फूड सप्लाई की व्यवस्था फेल हो चुकी है। टीसी इस काम को नहीं कर रहे हैं। इंसीडेंट कमांडर रविनंदन तिवारी ने बताया कि उन्हें थाटीपुर से लेकर गोविंदपुरी तक कंटेनमेंट जोन बनाने के बाद जोन में फंसे परिवारों के लिए फूड सप्लाई करने के लिए नगर निगम के टीसी से बहुत मशक्कत करना पड़ी, लेकिन दूसरे इलाकों में तो 4 से 5 दिन तक फूड सप्लाई तक नहीं हो सकी।
हम लोगों ने राशन भेजा
वार्ड 27 के खुला संतर के पास रहने वाले एक परिवार में माता पिता कोरोना पॉजिटिव निकले तो उन्हें स्वास्थ्य विभाग सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराने ले गया। पीछे उनके घर में रह गए तीन छोटे बच्चे। 2 दिन तक तो प्रशासन की तरफ से बच्चों के लिए राशन की व्यवस्था ही नहीं की गई। हम लोगों ने खुद ही राशन एकत्रित कर पहुंचाया था। उसके बाद उनके परिवार के एक सज्जन बच्चों की देखरेख के लिए पहुंचे। कायदे से तो ऐसे परिवारों में राशन की सप्लाई की जिम्मेदारी प्रशासन की ही रहती है।
-बृजेश गुप्ता, पूर्व पार्षद, वार्ड 27

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें