पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

थाटीपुर पुनर्घनत्वीकरण:लोगों ने 4125 पेड़ों को कटने से बचाने के लिए लगाईं तख्तियां, कोर्ट को भेज रहे पोस्टकार्ड

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऐसे प्रयास- लोगों ने एक-एक पेड़ गिनकर 4125 किए चिह्नित

थाटीपुर के सरकारी क्वार्टरों को गिराकर बहुमंजिला इमारतों वाले आवास और बाजार काॅम्पलेक्स के प्रोजेक्ट के सामने अब पर्यावरण प्रेमियों ने मोर्चा खोल दिया है। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए हाउसिंग बोर्ड द्वारा 709 पेड़ों को काटे जाने की अनुमति मांगी गई है जिसके बाद लोगों ने पेड़ बचाने के लिए हर पेड़ पर पर्यावरण संरक्षण की तख्तियां लगा दी हैं साथ ही इन पेड़ों को बचाने के लिए मप्र हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच के प्रिंसिपल रजिस्ट्रार को पोस्टकार्ड भेजने का अभियान शुरू कर दिया गया है।

मामले में कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि थाटीपुर पुनर्घनत्वीकरण प्रोजेक्ट एरिया में जो पेड़ आ रहे हैं। उनको लेकर शासन स्तर पर चर्चा चल रही है कि कितने पेड़ शिफ्ट किए जा सकते हैं और कितने पेड़ हटाने पड़ेंगे। अभी इस मामले में निर्णय होना शेष है बाकी यदि किसी की कोई आपत्ति होगी, तो उसका निराकरण किया जाएगा।

हाउसिंग बोर्ड ने नगर निगम के पार्क विभाग को चिठ्‌ठी भेजकर 709 पेड़ों को काटने व शिफ्टिंग के लिए अनुमति मांगी थी। लेकिन जब भारत हितरक्षा अभियान के मनीष काले और अन्य सदस्यों ने एक-एक पेड़ की गिनती शुरू की। जिसमें पता चला कि करीब 30.6 हेक्टेयर के इस क्षेत्र में 4 हजार 125 पेड़ लगे हैं जिनमें अनेक पेड़ कई दशकों पुराने हैं।

पेड़ों की गिनती के बाद हितरक्षा अभियान के सदस्यों थाटीपुर क्षेत्र में लोगों के बीच जाकर पोस्टकार्ड अभियान शुरू किया है। पोस्टकार्ड के जरिए पेड़ बचाओ मुहिम को जनआंदोलन बनाने की कवायद चल रही है। इसके अलावा निगम आयुक्त को ज्ञापन दिया गया है।

थाटीपुर पुनर्घनत्वीकरण प्रोजेक्ट के तहत 700 से अधिक सरकारी क्वार्टर तोड़कर विवेकानंद चौराहे से चौहान प्याऊ तक आवासीय एवं व्यवसायिक परिसर तैयार किया जाना है। जिसके पहले चरण में हाउसिंग बोर्ड द्वारा 6 हेक्टेयर जमीन पर काम किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें