बीएड प्रवेश में फर्जीवाड़ा:ऑनलाइन सत्यापन में ज्यादा अंक दर्ज कर मेरिट में दिलाई जगह

ग्वालियरएक वर्ष पहलेलेखक: प्रदीप बौहरे
  • कॉपी लिंक
कमेटी गठित कर जांच शुरू।  - Dainik Bhaskar
कमेटी गठित कर जांच शुरू। 
  • 3 कॉलेज के 13 विद्यार्थियों काे दिलाया लाभ, नोटिस जारी

बीएड कोर्स में प्रवेश के लिए हेल्प सेंटर बनाए गए सरकारी कॉलेजों में बड़ा फर्जीवाड़ा उच्च शिक्षा विभाग ने पकड़ा है। अंचल के 3 कॉलेजों के 13 विद्यार्थियों के अर्हताकारी परीक्षा के प्राप्त अंक से ज्यादा अंक सत्यापन के दौरान ऑनलाइन दर्ज कराए गए। इसका लाभ लेकर विद्यार्थी मेरिट में आया और प्रवेश पाने के योग्य हो गया।

उच्च शिक्षा विभाग के आयुक्त दीपक सिंह ने अंचल के एमएलबी कॉलेज ग्वालियर के प्राचार्य प्रो. केएस राठौर, गवर्नमेंट कॉलेज मेहगांव के प्राचार्य डॉ. राजोल कुमार सक्सेना आैर गवर्नमेंट गर्ल्स कॉलेज मुरैना के प्राचार्य डॉ. कमलेश श्रीवास्तव को कारण बताओ नोटिस जारी कर 15 दिन में जवाब मांगा है। इसके साथ ही मामले से संबंधित दस्तावेज भी मांगे हैं।

नाेटिस के बाद एमएलबी कॉलेज ने इस मामले में कमेटी गठित कर जांच शुरू करवा दी है। विभाग से जुड़े सूत्रों का कहना है कि बीएड में प्रवेश का यह मामला अभी छोटे स्तर पर पकड़ में आया है, पूरे अंचल में इस तरह की गड़बड़ियां 2-3 साल से चल रही हैं।

हेल्प सेंटर प्रभारी को दस्तावेज का सत्यापन करने के अपने पासवर्ड से अंकों को ऑनलाइन दर्ज करना होता है, लेकिन हेल्प सेंटरों में यह पासवर्ड कॉलेज के अन्य या आउट सोर्स कर्मचारियों को दे दिया जाता है। कहीं-कहीं तो निजी कॉलेज प्रबंधन के लोग भी इस प्रक्रिया के बीच प्रवेश कर लेते हैं। एमएलबी कॉलेज के प्राचार्य केएस राठौर का कहना है कि मामले में कमेटी गठित कर दी गई है। जांच कराई जा रही है कि गड़बड़ी किस स्तर पर हुई है।

तीन काॅलेजाें काे दिए हैं नाेटिस ^इस मामले में उच्च शिक्षा विभाग की ओर से संबंधित कॉलेजाें को नोटिस जारी किए गए हैं। कॉलेज तय अवधि में इनका जवाब देंगे। प्रो. एमआर कौशल, अतिरिक्त संचालक, उच्च शिक्षा

ऐसे हुई गडबडी

राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के बीएड कोर्स में प्रवेश प्रक्रिया के अनुसार विद्यार्थी के आवेदन करने के बाद हेल्प सेंटर बनाए गए सरकारी कॉलेजों में उनके दस्तावेज का सत्यापन किया जाता है। ऑनलाइन सत्यापन में हेल्प सेंटर प्रभारी को पासवर्ड दिया जाता है।

इसके बाद वे ही दस्तावेज का सत्यापन कर अर्हताकारी परीक्षा के अंकों को ऑनलाइन सबमिट करता है। यहीं पर फर्जीवाड़ा हुआ है। एमएलबी कॉलेज के 5, गवर्नमेंट गर्ल्स कॉलेज मुरैना के 3 तथा गवर्नमेंट कॉलेज मेहगांव के 5 विद्यार्थियों के अंकों काे बढ़ाकर सबमिट कर दिया गया है।