पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Police, District Administration Appealed To Everyone, If No One Listened, Then The Prime Minister Had To Write A Letter, Now Help Has Been Assured

धर्म परिवर्तन की चेतावनी का मामला:पहले पुलिस, जिला प्रशासन ने नहीं सुनी तो प्रधानमंत्री को पत्र लिखा, अब पुलिस मदद कर रही

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर धर्म परिवर्तन की चेतावनी देने वाले अजय शर्मा, अब पुलिस के आश्वासन पर संतुष्ट हैं। - Dainik Bhaskar
प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर धर्म परिवर्तन की चेतावनी देने वाले अजय शर्मा, अब पुलिस के आश्वासन पर संतुष्ट हैं।

ग्वालियर के एक ब्राह्मण परिवार के 25 सदस्यों द्वारा प्रधानमंत्री मोदी को चिट्‌ठी लिखकर धर्म परिवर्तन की चेतावनी देने के पीछे परेशान करने वाली कहानी है। परिवार ने इससे पहले माधवगंज थाना, CSP, SP ग्वालियर, DM ग्वालियर तक से मदद की गुहार लगाई थी, पर कहीं से भी मदद नहीं हुई।

पीड़ित परिवार से पंडित अजय शर्मा ने बताया, मदद तो छोड़ो माधवगंज पुलिस इलाके में चक्कर लगाने तक नहीं आई। पड़ोसी का डर बना था। जब सारे रास्ते बंद हो गए, तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर धर्म परिवर्तन की अनुमति मांगी। जैसे ही ब्राह्मण परिवार की यह चेतावनी वायरल हुई पुलिस हरकत में आई है। पुलिस ने पीड़ित परिवार को समझाया है कि उसके साथ अन्याय नहीं होगा, इसलिए अभी धर्म परिवर्तन का विचार छोड़ दिया है।

धर्म परिवर्तन का पत्र वायरल होते ही सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगी थी
धर्म परिवर्तन का पत्र वायरल होते ही सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगी थी

यह है मामला

माधवगंज के आपागंज स्थित पूजा विहार कॉलोनी में पंडित अजय शर्मा पुत्र सुरेश शर्मा परिवार के साथ रहते हैं। उनके आसपास कुछ हिंदू परिवार रहते हैं। एक उमरैया परिवार उन्हें काफी परेशान करता है। कभी भी मारपीट करना, धमकाना और थाने में SC, ST ACT की झूठी शिकायत कर मानसिक प्रताड़ना दे रहा है। अभी यह हालत हो गई है कि अजय और उनके आसपास के परिवार के 25 लोग दहशत में रहने को विवश हैं। कुछ बोल नहीं सकते नहीं, तो तत्काल उमरैया परिवार मामला दर्ज कराने को तैयार है।

पुलिस भी उनकी ही सुनती है। इस परिवार के कुछ सदस्य हिंदू सेना, एक भाजपा में सदस्य भी हैं। यही कारण है, उनका वहां वर्चस्व है। रोज-रोज की प्रताड़ना से तंग आकर अजय और उनके परिवार ने 6 जुलाई को मामले में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा था। इसमें अपने परिवार के 25 सदस्यों के साथ हिंदू धर्म छोड़कर मुस्लिम धर्म धारण करने की बात कही थी। इसके साथ ही ग्वालियर में DM कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, SP अमित सांघी को भी ज्ञापन दिया था।

यह भी पढ़ें

मोदी को चिट्‌ठी, इस्लाम अपनाने की चेतावनी!:ग्वालियर के ब्राह्मण परिवार ने लिखा; SC-ST एक्ट में फंसाने की धमकी देता है पड़ोसी, हिंदू संगठन भी चुप, लगता है कि मुस्लिम समाज ही मदद करेगा

यहां कर चुके हैं शिकायत

  • अजय शर्मा ने बताया कि इससे पहले वह कई जगह शिकायत कर चुके हैं, जो प्रकार हैं।
  • माधवगंज थाना, CSP कार्यालय लश्कर में शिकायत की, कोई मदद नहीं मिली।
  • SP ग्वालियर को भी मामले से अवगत कराया था।
  • DM ग्वालियर को भी पूरे मामले की जानकारी देकर धर्म परिवर्तन की अनुमति मांगी।
  • DGP मध्य प्रदेश से को भी पत्र लिखा।
  • प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी पत्र लिखकर हालात से अवगत कराया।
  • मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी अपने साथ हो रहे व्यवहार की जानकारी दी।
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भी चिट्‌ठी लिखी।
  • आखिर में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखना पड़ा।

छोड़ दिया है धर्म परिवर्तन का विचार

पीड़ित परिवार से अजय बताते हैं कि अब जाकर पुलिस ने उनके मामले की गंभीरता को समझा है। मंगलवार शाम ASP सतेन्द्र सिंह तोमर, CSP लश्कर आत्माराम शर्मा ने अपने ऑफिस में दोनों पक्षों को बुलाया था। मैं समय पर पहुंच गया था, लेकिन दूसरा पक्ष नहीं आया। यहां पुलिस अफसरों ने मुझे बताया कि SP ग्वालियर ने तत्काल आपकी मदद करने के लिए कहा है। पुलिस आपके साथ है। आपके साथ कोई अन्याय नहीं होने देगी।

इसके बाद मैंने भी धर्म परिवर्तन का विचार छोड़ दिया है। मामले में पुलिस कप्तान अमित सांघी का कहना है कि ऐसे मामले संवेदनशील होते हैं। जैसे ही, मेरे सामने मामला आया तत्काल मामले को सुलझाया गया है।

खबरें और भी हैं...