पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Racket Of Fake Notes Spread From Gwalior To Mumbai, Andhra Pradesh, UP, Bihar, Fake Notes Worth Rs 2.33 Lakh Recovered From 3 Accused

इंटरस्टेट नकली नोट रैकेट के 3 सदस्य गिरफ्तार:ग्वालियर से मुम्बई, आंध्रप्रदेश, UP, बिहार तक फैला है नकली नोटों का रैकेट, 3 आरोपियों से 2.33 लाख रुपए के नकली नोट बरामद

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नकली नोट के सौदागरों की पूरी कहानी का खुलासा करती पुलिस - Dainik Bhaskar
नकली नोट के सौदागरों की पूरी कहानी का खुलासा करती पुलिस
  • ग्वालियर पुलिस को मिली सफलता

ग्वालियर पुलिस ने इंटरस्टेट नकली नोट रैकेट के 3 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 2.33 लाख रुपए के 500, 200 व 100 के नकली नोट मिले हैं। यह रैकेट ग्वालियर के बदनापुरा से लेकर मुम्बई, नागपुर के रेड लाइट एरिया, आन्ध्रप्रदेश, बिहार व उत्तर प्रदेश तक नकली नोट चला चुके हैं।

फिलहाल पकड़े गए नकली नोट रैकेट के तीनों सदस्यों से पुलिस पूछताछ कर रही है। बिहार से इनको नकली नोटों की खैप मिलती थी। इनका एक साथी 27 जून को बदनापुरा के पास से पकड़ा गया था। जिससे पूछताछ के बाद पुलिस इन आरोपियों तक पहुंची है। पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है।

तीनों आरोपियों से बरामद नकली नोट, इतने अच्छी क्वालिटी के हैं कि पहचान करना मुश्किल है
तीनों आरोपियों से बरामद नकली नोट, इतने अच्छी क्वालिटी के हैं कि पहचान करना मुश्किल है

ASP हितिका वासल के निर्देशन में CSP महाराजपुरा रवि भदौरिया ने बताया कि 27 जून को सूचना मिली कि बदनापुरा निवासी एक व्यक्ति इस समय नकली नोटों को अपने पास रखे हुये है जो बाजार में नकली नोट असली के रुप में चलाने के लिये काले रंग की एक्टिवा से जा रहा है। उक्त सूचना पर से थाना प्रभारी पुरानी छावनी सुधीर सिंह कुशवाह के नेतृत्व में दो टीमें तैयार कर बदनापुरा निवासी रोहन बेड़िया को नकली नोटों के साथ गिरफ्तार किया। जिसके पास से 200 व 100 रुपए के 4700 रुपए नोट मिले। जिससे पूछताछ में पता चला कि उक्त नोट आंध्रप्रदेश के श्रीकाकुलम निवासी उसके एक दोस्त रूसी करकुल्ला ने उसे मार्केट में चलाने के लिये दिये है जो कि बदनापुरा में अपनी पत्नी के घर रहने मुंबई से आया हुआ है। उक्त आरोपी के खिलाफ अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया। वरिष्ठ अधिकारियों को मामले से अवगत कराकर नकली करेंसी सप्लाई करने वाले आंध्रप्रदेश निवासी रूसी करकुल्ला की तलाश की गई तो पता चला कि वह बदनापुरा से अपनी पत्नि के साथ ट्रैन से आंध्रप्रदेश भाग गया। उक्त ट्रैन का पता कर पुलिस ने आरोपी रूसी करकुल्ला को वारंगल स्टेशन तेलंगाना पर GRP की मदद से पकड़ा और पूछताछ के लिए ग्वालियर लाई। दौराने पूछताछ आरोपी द्वारा नकली नोटों की सप्लाई के संबंध में खुलासा करते हुये बताया कि उसके पास 3 लाख 60 हजार रुपए के नकली नोट हैं उसके दोस्त जो कि येलमन चिली विशाखापटनम निवासी प्रसाद ने दिलवाये थे। उसने काफी सारे नकली नोट मुंबई के मार्केट में सप्लाई भी कर दिए हैं और कुछ नोट उसके घर आंध्रप्रदेश रखे हैं। साथ ही बताया कि बदनापुरा स्थित अपनी ससुराल में आते समय 10 हजार रुपये के नोट लेकर आया था जो कि 5 हजार रुपये के नोट बदनापुरा स्थित उसके दोस्त रोहन को चलाने के लिये दिये थे।शेष नोट उसने स्वयं मार्केट में खर्च कर दिये। बचे हुये 5 नोट बदनापुरा में रखे हैं आरोपी के बताये अनुसार 5 नकली नोट बदनापुरा से जप्त कर आरोपी को न्यायालय के समक्ष पेश कर 10 दिन की पुलिस रिमांड पर लिया।

आन्ध्रा से रुपए बरामद, आगरा से दो आरोपी और पकड़े

  • पूछताछ के बाद पुलिस की एक टीम रूसी करकुल्ला को लेकर आंध्रप्रदेश रवाना हुई। वहां उसके घर से 28 हजार रुपए के नकली नोट बरामद किए। यहां रूसी ने बताया कि यह नोट उसे उसका दोस्त विशाखापटनम निवासी प्रसाद देता था। पुलिस प्रसाद के घर पहुंची तो पता लगा कि वह हैदराबाद गया है। वहां से नागपुर फिर मुम्बई जाने का पता लगा। लास्ट लोकेशन मिली कि वह आगरा में नकली नोट की नई डील करने के लिए निकला है। उसके साथ में सिवान बिहार निवासी मोहम्मद युसूफ भी है। इसके बाद आगरा में सिकंदरा हाइवे पर प्रसाद और मोहम्मद को पुलिस ने घेराबंदी कर गिरफ्तार किया। दोनों के बैग की तलाशी ली तो एक लाख रुपये के नकली नोट रखे होना पाये गये । जिनमें 100, 200, 500 रुपये के नकली नोट बडी मात्रा में जप्त हुये है।

देश के कई शहरों में कर चुके हैं सप्लाई

  • आरोपीगणो को गिरफ्तार कर थाना लेकर आये जिनसे पूछताछ की गई तो गोरखपुर यूपी एवं सिवान बिहार से नकली नोट मिलने और उनको दिल्ली, मुम्बई, आगरा, ग्वालियर, आन्ध्रप्रदेश के कई शहरों में सप्लाई करने की बात कुबूली है। पकड़े गए तीनों आरोपियों रूसी करकुल्ला, प्रसाद व मोहम्मद युसूफ से पता लगा कि इंटरस्टेट रैकेट का मास्टर माइंड राजन तिवारी निवासी सिवान बिहार है। जो अभी पुलिस के हाथ नहीं आया है। वही नोट लाकर इनको देता था। 40 हजार रुपए में 1 लाख रुपए के नकली नोट मिलते थे।
खबरें और भी हैं...