विवाह पंचमी आज:राम-जानकी विवाह आज, तैयारियां शुरू, मंदिर और पालकी सजाई गई

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सनातन धर्म मंदिर में तैयार करते पालकी। इनसेट राम मंदिर में सजे भगवान। सनातन धर्म मंदिर में सजे भगवान चक्रधर। - Dainik Bhaskar
सनातन धर्म मंदिर में तैयार करते पालकी। इनसेट राम मंदिर में सजे भगवान। सनातन धर्म मंदिर में सजे भगवान चक्रधर।
  • राम मंदिर को अयोध्या धाम का रूप दिया, निकालेंगे राम बारात

विवाह पंचमी के अवसर पर बुधवार को शहर के प्रमुख मंदिरों में राम-जानकी विवाह का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए तैयारियां मंगलवार से शुरू कर दी गईं। सनातन धर्म मंदिर में पालकी तैयार की जा रही है, जिसमें भगवान राम, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघन विराजित होंगे। इसके साथ ही भगवान चक्रधर का श्रृंगार श्रीराम के रूप में किया जाएगा। इसके अलावा फालका बाजार स्थित राम मंदिर में राम विवाह की तैयारियां की जा रही हैं।

फालका बाजार राममंदिर के प्रबंधन के अनुसार, राममंदिर को अयोध्या धाम का रूप दिया गया है। 8 दिसंबर को दोपहर 2 बजे राम बारात निकाली जाएगी, यह राममंदिर से पाटनकर बाजार जाएगी के बाद राममंदिर लौटेगी। वैदिक रीति से राम-जानकी विवाह कराया जाएगा। शाम की आरती के बाद श्रद्धालुओं को प्रसादी वितरित की जाएगी।

श्री सनातन धर्म मंदिर में श्री राम जानकी ब्याहुला उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर बुधवार शाम 5 बजे श्री अचलेश्वर महादेव से भगवान श्री राम की बारात शहनाई वादन के साथ शोभायात्रा के रूप में प्रारंभ होकर विवाह स्थल श्री सनातन धर्म मंदिर प्रांगण में पहुंचेगी। बग्घी में भगवान श्रीराम का स्वरूप, आचार्य वशिष्ठ के रूप में आचार्य रमाकांत जी शास्त्री रहेंगे। श्री चक्रधर हॉल में बने मंच पर वरमाला होगी।

चक्रधर हॉल में ही राम जानकी मंदिर में विवाह मण्डप बनाया जा रहा है, जिसमें राम जानकी का आचार्यों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विधिवत सात भांवरों एवं सात वचनों की रस्म होगी। साथ ही ब्याहुला उत्सव में पधारे सभी गणमान्य भक्तवृन्द को प्रसाद वितरण होगा। इस अवसर पर श्री सनातन धर्म मंदिर की आकर्षक साज सज्जा की जाएगी।

वहीं चावड़ी बाजार स्थित प्राचीन नगरकर श्रीराम मंदिर में प्रभु श्रीराम संग माता जानकी का विवाह बुधवार शाम 7 बजे सम्पन्न होगा। प्रवक्ता निशिकांत सुरंगे ने बताया कि शाम 4 बजे पालकी नैना पैलेस की और प्रस्थान करेगी। विवाह में दशरथ की भूमिका में महंत सुभाष नगरकर होंगे जबकि जनक की भूमिका में श्यामलाल बंसल होंगे। कार्यक्रम संयोजक अन्नपूर्णा व व्यवस्था प्रमुख सुबोध नगरकर होंगे ।

खबरें और भी हैं...