बेहाल मरीज, परेशान परिजन और सुस्त प्रशासन:शहर में रोज गहराता जा रहा है रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन का संकट

ग्वालियर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमितों के लिए न पर्याप्त बेड, न ऑक्सीजन और न इंजेक्शन। - Dainik Bhaskar
तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमितों के लिए न पर्याप्त बेड, न ऑक्सीजन और न इंजेक्शन।

कोरोना का संक्रमण गंभीर रूप लेता जा रहा है, लेकिन स्वास्थ्य सुविधाएं धीरे-धीरे जवाब देती जा रही है। जिला प्रशासन को जरूरत के मुताबिक न रेमडेसिविर इंजेक्शन मिल पा रहे हैं और न ही पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। इंजेक्शन की बढ़ती मांग और वितरण की ध्वस्त होती व्यवस्था के कारण कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने बुधवार को फिर नई व्यवस्था लागू की। अब रेमडेसिविर इंजेक्शन की सलाह देने वाले डॉक्टर की पात्रता भी तय कर दी गई है। कलेक्टर ने प्राइवेट अस्पतालों को दिए जाने वाले इंजेक्शन की सूची को सार्वजिनक करना भी शुरु कर दिया है।

रेमडेसिविर; शहर में छोटे-बड़े 77 अस्पताल कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे हैं। इनमें 300 गंभीर मरीज भर्ती हैं। कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने बुधवार को रेमडेसिविर इंजेक्शन अस्पतालों को अलॉट करने की सूची जारी की है। 77 अस्पतालों में से सिर्फ 30 कोविड अस्पतालों को 90 इंजेक्शन दिए गए। इंजेक्शन के लिए परेशान लोगों ने कलेक्टोरेट में हंगामा किया। इसके बाद तय किया गया कि अब कलेक्टोरेट से इंजेक्शन का वितरण नहीं होगा। उपलब्ध स्टॉक के आधार पर अस्पतालों को ही इंजेक्शन दिए जाएंगे।

ऑक्सीजन; ऑक्सीजन को लेकर निजी अस्पतालों में सुबह से मची अफरा-तफरी के बाद बुधवार को तीन टैंकर सागर व भिलाई से ऑक्सीजन लेकर ग्वालियर आए। सागर से दो टैंकर में 20 टन और भिलाई के टैंकर में 15 टन ऑक्सीजन आयी थी। इसमें से 10 टन ऑक्सीजन जेएएच को दी गई, शेष प्राइवेट अस्पतालों को। गुरुवार को बोकारो से भी एक टैंकर ग्वालियर आने की उम्मीद है। एक टैंकर कानपुर के पास खराब होने से वहीं खड़ा है। सागर से आए दो खाली टैंकरों को बुधवार शाम को एयरलिफ्ट कर रांची (बोकारो) भेजा गया।

वैक्सीन; पिछले एक सप्ताह से वैक्सीन की आपूर्ति न हो पाने के कारण अब दो दिन टीके नहीं लगेंगे। बुधवार को सिर्फ जेएएच में ही लोगों को पहला टीका लगा। सेना के जवानों और उनके परिवार के लोगों को मिलिट्री हॉस्पिटल में पहला टीका लगाया गया। वैक्सीन खत्म होने से गुरुवार और शुक्रवार को टीकाकरण बंद रखने का निर्णय लिया है। उधर 1 मई से 18 से 45 साल के बीच के लोगों का टीकाकरण शुरू होना है। ऐसे युवाओं के बुधवार को रजिस्ट्रेशन तो हो गए, लेकिन वैक्सीन कब और किस सेंटर पर लगेगी, यह जानकारी नहीं मिल पाई।

खबरें और भी हैं...