पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रसूति रोग विभाग शोध:गर्भवती महिलाओं पर कोविड का असर जानने के लिए रिसर्च की अवधि दो साल और बढ़ी

ग्वालियर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गर्भवती महिलाओं में कोरोना संक्रमण के असर का पता करने के लिए गजराराजा मेडिकल काॅलेज (जीआरएमसी) का स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग शोध कर रहा है। गत वर्ष अप्रैल 2020 से शुरू हुए शोध में अब तक साढ़े पांच सौ से अधिक प्रसूताओं का डाटा तैयार किया जा चुका है।

खास बात यह है कि कोरोना में हो रहे म्यूटेशन को ध्यान में रखते हुए शोध की अवधि को दो साल और बढ़ा दिया गया है। इससे ये पता चल सकेगा कि पहली और दूसरी लहर में गर्भ‌वती महिलाओं पर वायरस का क्या प्रभाव पड़ा और संभावित तीसरी लहर में क्या स्थिति रही? इस शोध में स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. वृंदा जोशी और डॉ. प्रतिभा गर्ग अहम भूमिका निभा रही हैं। पीजी की छात्राएं भी इस शोध में योगदान दे रही हैं।

खबरें और भी हैं...