• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Sisters Who Reached Jail Through VIDEO Conferencing On Bhai Dooj Saw Their Brothers, Talked, But Could Not Do A Vaccine On Their Forehead.

सेन्ट्रल जेल में ONLINE मिले भाई बहन...:भाई दूज पर VIDEO कॉन्फ्रेसिंग के जरिए जेल पहुंची बहनों ने भाइयों को देखा, बात की, पर माथे पर टीका नहीं कर पाईं

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्वालियर सेन्ट्रल जेलमें इस तरह ऑनलाइन मुलाकात जेल में बंद भाई-बहन से की गई - Dainik Bhaskar
ग्वालियर सेन्ट्रल जेलमें इस तरह ऑनलाइन मुलाकात जेल में बंद भाई-बहन से की गई
  • दीपावली की दौज पर जेल में की गई थी ऑनलाइन मुलाकात की व्यवस्था

शनिवार को दीपावली की भाईदूज पर सेन्ट्रल जेल में बहनों ने भाइयों से ONLINE मुलाकात की है। VIDEO कॉन्फ्रेसिंग के जरिए बहनों ने अपने भाइयों के चेहरे देखे और शुभकामनाएं भी दी। पर वह टीका नहीं कर सकी हैं। कोविड के चलते जेल में खुली मुलाकात पर प्रतिबंध है। इसलिए जेल प्रबंधन ने इस तरह की मुलाकात का तरीका निकाला था। इसमें समय जरूर लग रहा था पर यह पूरी तरह सुरक्षित थी। इसमें जेल के अंदर तीन अलग-अलग रूम बनाकर VIDEO कॉन्फ्रेंस की व्यवस्था की गई थी। प्रदेश की सभी जेलों में इसी तरह भाईदूज पर व्यवस्था की गई है। दोपहर तक 225 से ज्यादा महिलाएं VIDEO कॉन्फ्रेसिंग पर मुलाकत कर चुकी थीं।

जेल में बंद बंदी अपने बच्चों की तस्वीर देखता हुआ
जेल में बंद बंदी अपने बच्चों की तस्वीर देखता हुआ

वैसे तो सेन्ट्रल जेल में रक्षा बंधन, होली और दीपावली की भाईदूज पर जेल में बंदियों को उनकी बहनों से खुले परिसर में मुलाकात का मौका मिलता था, लेकिन बीते दो वर्ष से कोविड के चलते भाईदूज पर होने वाली मुलाकात पूरी तरह बंद थी। जब कोविड का असर कम हुआ तो जेल में सामान्य मुलाकात VIDEO कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शुरू की गई थी। दीपावली के बाद शनिवार को भाईदूज पर सैकड़ों की संख्या में बहनों के सेन्ट्रल जेल पहुंचने की आशंका थी। बहनें निराश न हो इसके लिए जेल प्रबंधन ने भी सारे इंतजाम कर रखे थे। सुबह 8 बजे से ही जेल में बहन और भाई की ONLINE मुलाकात शुरू कराई गई। सेन्ट्रल जेल में अंदर तीन केविन बनाए गए, जहां कम्प्यूटर और बड़ी टीवी स्क्रीन लगाई गई। उसे नेटवर्क से कनेक्ट कर वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए मुलाकात कराई गईं।
एक दूसरे को देख झलक आए आंसू
कोविड के चलते कई बहनें तो एक-एक साल से जेल में बंद अपने भाइयों से नहीं मिल पाई थीं। जब बहनों ने VIDEO कॉन्फ्रेसिंग पर भाइयों से बात की तो ज्यादातर भाई बहनों के आंसू झलक आए। बहनों ने ONLINE अपने-अपने भाइयों को देखा, बात की, लेकिन परम्परा के अनुसार वह भाईदूज पर तिलक नहीं कर सकीं, लेकिन अपने भाइयों को सकुशल देखकर संतुष्ट भी नजर आईं।
पूरी तरह संक्रमण मुक्त सुविधा
सेन्ट्रल जेल प्रबंधन ने बाहर से आने वाली बहनों को जेल गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के बाद ही अंदर जाने दिया। जगह-जगह पर सेनिटाइजर रखवाया गया था। जिससे कोरोना संक्रमण न फैले।
शाम तक 1200 बहनों के मिलाई का टारगेट
जेल अधीक्षक मनोज साहू का कहना है कि भाईदूज पर बहनें जेल में बंद अपने भाइयों से मिलने आती हैं। हर बार की तरह इस बार भी महिलाओं का आना जारी है। शाम तक 1200 से ज्यादा बहनों को भाई से ऑनलाइन मुलाकात कराने का टारगेट है। जेल में कोविड गाइड लाइन का पूरी तरह पालन किया जा रहा है।