ऊधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस अग्निकांड:एसएजी टीम के सामने 20 कर्मचारी-अफसरों के हुए बयान

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आग से जले ट्रेन के कोच।    (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
आग से जले ट्रेन के कोच। (फाइल फोटो)

धौलपुर-मुरैना के बीच हेतमपुर रेलवे स्टेशन में ऊधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस के ए-1, ए-2 कोच में लगी आग की जांच एसएजी की टीम ने शुरू कर दी है। रविवार को झांसी मंडल में सीनियर एडमिनिस्ट्रेटिव ग्रेड (एसएजी) की टीम ने 20 रेल कर्मचारी और अफसरों को बुलाकर पूछताछ की। कुछ ने कहा कि आग लगने का कारण किसी के द्वारा सिगरेट हैं। वहीं कुछ ने शॉर्ट सर्किट से आग लगना बताया।

इस अग्निकांड में एसी के दो कोच पूरी तरह जलकर खाकर हो चुके हैं। जबकि एचए-1 कोच को आंशिक नुकसान पहुंचा है। वहीं उत्तर मध्य रेलवे के मुख्यालय प्रयागराज ने झांसी मंडल से पूछा कि अग्निकांड वाली ट्रेन में कितने यात्रियों का सामान जल गया है। ऐसे यात्रियों का सामान कितनी लागत का था। अब तक 20 यात्रियों ने ट्रेन में सामान जलने की लिखित शिकायत दर्ज करा चुके हैं।

जांच उत्तर मध्य रेलवे के चीफ सेफ्टी ऑफिसर (सीएसओ) मनीष कुमार गुप्ता की अध्यक्षता में हो रही है। जांच टीम में चीफ रोलिंग स्टॉक इंजीनियर सूरज प्रकाश, चीफ इलेक्ट्रिक सर्विस इंजीनियर एके सिंह, मुख्य सुरक्षा आयुक्त (सीएससी) आरएसपी सिंह शामिल हैं। इस मामले में झांसी मंडल के पीआरओ मनोज कुमार सिंह का कहना है कि उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस में आग लगने की जांच एसएजी टीम कर रही है। रविवार को इस मामले में करीब 20 लोगों के बयान दर्ज किए गए हैं।

इन अफसरों के हुए बयान

ट्रेन ड्राइवर डीके त्यागी, गार्ड जयराम अहिरवार, टीटीई वीके खरे, वीरेंद्र रिछारिया, एसी कोच अटेंडर, हेतमपुर स्टेशन मास्टर डीसी मीणा, हेतमपुर स्टेशन के पास खड़ी मालगाड़ी के गार्ड नितिन लिटोरिया, मोहम्मद रफीक, टीआई गजेंद्र सिंह राठौर, सीसीआई मुरैना कल्लूराम, कैरिज बैगन एसएसई डीएस मीणा, कैरिज एंड बैगन ईटीसी हेमराज मीणा, लोको इंस्पेक्टर एसके गुप्ता, आरपीएफ इंस्पेक्टर हरकेष मीणा, ट्रेन लाइटिंग एसएसई और गेट नंबर 487 के गेटमैन प्रताप सिंह शामिल हैं।

आग लगने के बाद जागे रेलवे अफसर, दिए जागरुकता अभियान चलाने के निर्देश दिए। स्पेशल सेफ्टी ड्राइवर चलाकर देखेंगे स्माेक डिटेक्टर काम कर हैं या नहीं: ट्रेन में आग लगने के बाद उत्तर मध्य रेलवे के डिप्टी सीएसओ इलेक्ट्रिक ने डीआरएम को पत्र जारी कर निर्देश दिए हैं कि ट्रेनों में 15 दिन स्पेशल सेफ्टी ड्राइव चलाई जाए।

खबरें और भी हैं...