MP में फिर व्यापमं जैसा फर्जीवाड़ा!:MP-TET देने वाले ग्वालियर के कैंडिडेट का दावा; कहा- ट्रेन में मिले एजेंट के मोबाइल में जो देखा, वही पेपर आया

ग्वालियर5 महीने पहलेलेखक: रामेंद्र परिहार

ग्वालियर के एक छात्र ने MP-TET (मध्यप्रदेश टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) पर सवाल खड़े किए हैं। उसने पेपर लीक का दावा करते हुए परीक्षा में फर्जीवाड़ा का आरोप लगाया है। मदन मोहन दौहरे नाम के इस परीक्षार्थी का कहना है कि 25 मार्च को वह भोपाल के रायसेन रोड स्थित एक स्कूल में MP-TET की परीक्षा देने गया था। जब वह लौट रहा था, तो उसे धौलपुर का एक एजेंट मिला। उसने मोबाइल में पूरा पेपर दिखा दिया। 100 % पेपर मैच कर रहा था, जबकि सेंटर से पेपर बाहर लाया ही नहीं जा सकता। फिर एजेंट के मोबाइल में कैसे पेपर आ गया।

परीक्षार्थी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को टैग कर ट्वीट किया है कि यह क्या हो रहा है? क्या इसी प्रकार सभी परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा होता रहेगा। बेरोजगारों की प्रतिभा का ऐसे ही हनन होता रहेगा। उसने मांग की है कि हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज से न्यायिक जांच कराएं। मामला उजागर होने के बाद शिवराज सरकार एक बार फिर सवालों के घेरे में हैं।

आगे बढ़ने से पहले आप इस पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दे सकते हैं...

छात्र मदन मोहन दौहरे, जिसने इस मामले को उठाया है।
छात्र मदन मोहन दौहरे, जिसने इस मामले को उठाया है।

मध्यप्रदेश परीक्षाओं में फर्जीवाड़े के लिए पहले से ही बदनाम रहा है। व्यापमं में मेडिकल कॉलेज की सीटों की बंदरबांट का फर्जीवाड़ा हो या नर्सिंग का फर्जीवाड़ा। अब MP-TET मध्य प्रदेश टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट में भी फर्जीवाड़े का आरोप लगा है। यह खुलासा ग्वालियर के सिकंदर कंपू निवासी मदन मोहन दौहरे ने किया है।

मदन मोहन शिक्षा विभाग में नौकरी के लिए तैयारी कर रहे हैं। वह प्राथमिक शाला वर्ग-3 की परीक्षा MP-TET के तहत देने के लिए 25 मार्च को भोपाल गए थे। रायसेन रोड पर एक स्कूल में सेंटर पड़ा था। दोपहर में 3 बजे अमृतसर एक्सप्रेस से ग्वालियर लौटने का टिकट था। जैसे ही, वह ट्रेन में सवार हुए तो उनकी पास ही सीट पर एक युवक बैठा था। बातचीत होने लगी तो युवक को पता लगा कि मदन MP-TET का पेपर देकर आ रहा है। इसके बाद उस युवक ने अपना परिचय दिया और बताया कि वह धौलपुर में डीएड कॉलेज चलाता है।

साथ ही, उसने बताया कि MP-TET में सिलेक्शन के लिए रैकेट चलता है। उसने अपने मोबाइल में परीक्षार्थी को MP-TET में उसी दिन आया पेपर दिखाया। मदन का दावा है कि उसने चेक किया तो 100 फीसदी वही पेपर था। जबकि पेपर तो बाहर आ ही नहीं सकता। अंदर मोबाइल अलाउड नहीं है। फिर उस युवक ने बताया कि परीक्षा से पहले ही पेपर लीक हो गया था। उसने अपने मोबाइल में दिखाया कि रात को ही पेपर उसके पास आ गया था।।

ग्वालियर, भोपाल में रैकेट चल रहा है
ट्रेन में मिले एजेंट ने परीक्षार्थी मदन मोहन को बताया कि ग्वालियर, भोपाल में कई कॉलेज में सब कुछ पहले से सेट होता है। पेपर पहले ही पहुंच जाता है। इसके लिए 4 से 5 लाख रुपए खर्च करने पड़ते हैं। इस पर परीक्षार्थी ने जब कॉलेज के नाम पूछे तो उसने नहीं बताए।

मेहबारन सिंह वर्मा नाम के युवक ने मोबाइल के स्क्रीन शॉट भेजकर सीएम से शिकायत की है।
मेहबारन सिंह वर्मा नाम के युवक ने मोबाइल के स्क्रीन शॉट भेजकर सीएम से शिकायत की है।

पेपर एजेंट के मोबाइल में कैसे आया
परीक्षार्थी मदन मोहन दौहरे ने कहा कि मैं इस बात को अभी तक नहीं समझ पा रहा हूं कि उस युवक के मोबाइल में पेपर कैसे आया। युवक ने तो यही बताया कि पेपर पहले ही लीक हो चुका था। क्योंकि परीक्षा सेंटर से पेपर बाहर लाया ही नहीं जा सकता। युवक के पास मोबाइल में जो पेपर था, उसमें हर एक सवाल उसी जगह और नंबर पर था, जो पेपर में आया था।

सीएम को ट्वीट कर पूछा- क्या ऐसे ही फर्जीवाड़ा होता रहेगा
एक परीक्षार्थी मेहरबान सिंह वर्मा ने सीएम को ट्वीट करते हुए लिखा है कि शिवराज सिंह जी ये क्या हो रहा है। MP-TET का पेपर लक्ष्मण सिंह के मोबाइल में कैसे आया। क्या इसी प्रकार सभी परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा होता रहेगा। बेरोजगारों की प्रतिभा का ऐसे ही हनन होता रहेगा। हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज से इस पूरे मामले की न्यायिक जांच कराई जाए। साथ ही दोषियों पर कार्रवाई हो।

कांग्रेस ने मामले की जांच की मांग

इस मामले को लेकर कांग्रेस के नेता सरकार पर हमलावर हो गए हैं। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, पीसी शर्मा सहित कई नेताओं ने ट्वीट कर इस मामले की जांच कराने की मांग की है। एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए दिग्विजय सिंह ने लिखा – यह गंभीर आरोप है। इसकी जांच तत्काल होना चाहिए।

​​​​​अरुण यादव का ट्वीट- व्यापम घोटाला जारी है, क्योंकि जब तक शिवराज जी मुख्यमंत्री रहेंगे व्यापमं के माध्यम से होने वाली भर्तियां में भ्रष्टाचार जारी रहेगा। शिक्षक वर्ग 3 के एग्जाम चल रहे हैं और पेपर मोबाइल पर आ गया। इस घटना की उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए जिससे दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो सके।

पीसी शर्मा- सरकार पचमढ़ी में है और यहां व्यापमं घोटाले की अगली सीरीज आ गई है... जी पक्षियों - पेड़ों से फुर्सत मिल जाए तो यहां भी ध्यान दे दीजिए।

सोशल मीडिया पर युवा कांग्रेस के कई पदाधिकारियों ने वायरल पेपर के स्क्रीनशॉट को शेयर किया है। यू-ट्वयूब पर भी इस मामले को लेकर कुछ वीडियो सर्कुलेट हो रहे हैं।

MP TET के पेपर के स्क्रीनशॉट वायरल:वर्ग 3 के प्रश्नपत्र सामने आने पर दिग्विजय, अरुण यादव ने ट्वीट कर सरकार पर बोला हमला

खबरें और भी हैं...