पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Fire Of Bribe Of 10 Thousand, TI Fell On The Soldier, SP Said I Will Not Tolerate, Both Have Been Sent To The Line From The Police Station

8 महीने में हटाए तीन TI:10 हजार की रिश्वत की आंच, TI और सिपाही पर गिरी गाज, SP बोले- बर्दाश्त नहीं करूंगा, दोनों को थाना से लाइन भेज दिया है

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SP के जारी किए गए आदेश - Dainik Bhaskar
SP के जारी किए गए आदेश
  • दैनिक भास्कर ने किया था पूरे मामले का खुलासा

गिट्‌टी से भरे ट्रक को पकड़कर जबरन 10 हजार रुपए वसूलने के आरोप में TI कंपू थाना मनीष धाकड़ और एक सिपाही सुनील राजौरिया को SP ग्वालियर ने लाइन अटैच कर दिया है। चार दिन पहले एक ट्रक मालिक ने इन दोनों की शिकायत पुलिस कप्तान से की थी। इस खबर को बुधवार को दैनिक भास्कर ने चलाया था। इसके बाद गुरुवार रात को SP ग्वालियर ने TI और सिपाही को लाइन अटैच करते हुए कहा कि ऐसी हरकत बर्दाश्त से बाहर है।

कंपू थाना में बीते 8 महीने में यह तीसरा TI है जिनको किसी न किसी कारण से इस तरह हटाया गया है। अक्टूबर 2020 में TI केएन त्रिपाठी छेड़छाड़, जनवरी 2021 में TI अनीता ग्वालियर से निर्दोष युवक को पकड़कर दतिया पुलिस को बिना कार्रवाई देना, अब TI मनीष धाकड़ वसूली के आरोप में लाइन भेजे गए हैं।

यह है पूरा म मामला

बिलौआ निवासी राजेन्द्र जाटव ने 4 दिन पहले SP ग्वालियर को शिकायत की थी। शिकायत में बताया था कि वह नरेश धानुक के साथ साझेदारी में ट्रक MP30 H-0425 चलाता है। 29-30 मई की दरमियानी रात ट्रक में बिलौआ से गिट्टी भरकर मुरैना ले जाई जा रही थी। ट्रक चालक रिंकू धाकड़ ट्रक चला रहा था। रात 3.30 बजे के करीब चिरवाई नाका पर ट्रक को पुलिस ने रोक लिया। उससे कागजात दिखाने को कहा जिस पर ट्रक चालक ने सारे दस्तावेज TI कंपू को दिखा दिए।

इसके बाद ट्रक चालक रिंकू ने ट्रक ले जाने के लिए इजाजत मांगी तो गश्त पर निकले TI और उनके वाहन चालक सिपाही सुनील ने ट्रक को थाने ले जाने के लिए कहा। उनकी बात मानकर रिंकू ने ट्रक को कंपू थाने के सामने खड़ा कर दिया। इसके बाद ट्रक चालक ने ट्रक मालिक राजेन्द्र को सूचना देकर बुलाया। थाना पहुंचने के बाद TI कंपू मनीष धाकड़, पुलिस सिपाही सुनील राजौरिया से गाड़ी छोड़ने के लिए कहा, सभी दस्तावेज होने की भी बात कही, लेकिन वह नहीं माने।

पुलिस वाहन के चालक सुनील ने ट्रक छोड़ने के बदले 10 हजार रुपए की मांग रखी। रुपए नहीं देने पर झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी। उस समय गिट्‌टी मुरैना सही समय पर पहुंचाना जरूरी था इसलिए रुपए देकर गाड़ी को छुड़ाया। शिकायत के साथ ट्रक मालिक ने पुलिस वाहन के चालक सुनील से अपने साझेदार नरेश धानुक से बातचीत का एक ऑडियो भी दिया था। जिसमें सुनील बार-बार थाने बुला रहा था। इस कंपू TI ने उनको फंसाने व झूठी शिकायत करने की बात कही थी।

ASP की जांच के बाद किया लाइन अटैच

इस मामले में पुलिस कप्तान ने जांच का जिम्मा ASP शहर दक्षिण हितिका वासल को सौंपा था। उनकी जांच और सिफारिस के आधार पर SP ग्वालियर ने गुरुवार रात को TI मनीष धाकड़, सिपाही सुनील राजौरिया को तत्काल प्रभाव से लाइन अटैच करने के आदेश जारी कर दिए।

पुलिस पर नो एंट्री में वसूली का आरोप:ट्रक मालिक ने कहा- कंपू TI ने ट्रक छोड़ने के लिए 10 हजार रुपए लिए, TI बोले- नो एंट्री में खड़ा था सिर्फ चालान किया, झूठी शिकायत कर रहा

8 महीने में तीन TI ऐसे ही हटाए गए

ग्वालियर का कंपू थाना पिछले 8 महीने में काफी बदनाम रहा है। यहां 3 TI की इसी तरह आरोपों के बाद विदाई हुई है।

केस-1

  • अक्टूबर 2020 तत्कालीन TI केएन त्रिपाठी ने 18 अक्टूबर को थाना में एक महिला की मदद करने आई ई-रिक्शा वाली से छेड़छाड़ की। इतना ही नहीं उससे अश्लील वॉटसएप चैट की। उसे जबरदस्ती संबंध बनाने का दबाव डाला। मामले में महिला की शिकायत पर कंपू TI त्रिपाठी पर महिला थाना में FIR दर्ज की गई। जिस उन्हें सस्पेंड किया गया।

केस-2

  • इसके बाद कंपू थाने की कमान TI अनीता मिश्रा को दी गई। 21 जनवरी 2021 में दतिया के कोतवाली थाना प्रभारी रत्नेश यादव अपने किसी निजी कार्य से ग्वालियर आए थे। कंपू के गुड़ा से एक युवक को बहस होने के बाद मारपीट कर कंपू थाना ले गए। उस पर मोबाइल लूट का आरोप लगाकर अपने साथ दतिया ले गए। यहां TI मिश्रा को कार्रवाई करनी चाहिए थी। दतिया आरोपी कैसे चला गया। पूरे मामले की सूचना SP तक को नहीं दी थी। दोनों थाना प्रभारियों ने सांठगांठ की। दोनों को लाइन अटैच किया गया।

केस-3

  • कंपू TI मनीष धाकड़ और उनके वाहन के चालक सिपाही सुनील राजौरिया पर ट्रक मालिक से 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगने का आरोप लगा। ऑडियो भी वायरल हुआ। एसपी तक शिाकयत पहुंची तो तत्काल प्रभाव से TI और सिपाही दोनों को थाना से लाइन का रास्ता दिखा दिया गया।