• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Girl Started Turning Blue As Soon As She Was Vaccinated, She Broke Down While Suffering In Her Mother's Lap, The Doctor Ran Away From The Duty Room As Soon As She Died.

बच्ची की मौत पर KRH में हंगामा...:टीका लगाते ही नीली पड़ने लगी बच्ची, मां की गोद में तड़पते हुए तोड़ दिया दम, मौत होते ही डॉक्टर ड्यूटी रूम छोड़कर भागे

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मासूम जिसने अभी जिंदगी भी नहीं देखी थी, लेकिन किसी की लापरवाही की भेंट चढ़ गई - Dainik Bhaskar
मासूम जिसने अभी जिंदगी भी नहीं देखी थी, लेकिन किसी की लापरवाही की भेंट चढ़ गई
  • - घटना सोमवार रात की है

ग्वालियर के कमलाराजा अस्पताल (KRH) में सोमवार रात चार दिन की बच्ची की मौत के बाद हंगामा खड़ा हो गया। बच्ची को डॉक्टर ने इंजेक्शन लगाया था, जिसके बाद उसका शरीर नीला पड़ने लगा और सांस थमने लगीं। कुछ देर बाद मां की गोद में मासूम ने दम तोड़ दिया। बच्ची की मौत से परिजन आक्रोशित हो गए और हंगामा शुरू कर दिया। जिस पर KRH में ड्यूटी रूम छोड़कर डॉक्टर गायब हो गए।

हंगामा का पता चलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। परिजन बार-बार यही मांग कर रहे थे कि बच्ची बिल्कुल अच्छी थी। उसे इंजेक्शन किसने लगाया है उसे सामने लाया जाए। पर डॉक्टरों के पास कोई जवाब नहींे था। पुलिस ने किसी तरह परिजन को शांत कराया और अस्पताल से बाहर लेकर आए। परिजन से शिकायती आवेदन लेकर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

बच्ची की मौत के बाद उसके शव को गोद में लेकर हंगामा करते परिजन
बच्ची की मौत के बाद उसके शव को गोद में लेकर हंगामा करते परिजन

यह है पूरा घटनाक्रम
उपनगर ग्वालियर में बाबा कपूर की दरगाह के पास निवासी लाल मोहम्मद की शादी डेढ़ साल पहले ही खुशनुमा बेगम से हुई है। दोनों के जीवन में चार दिन पहले खुशी आई। चार दिन पहले लाल मोहम्मद की पत्नी खुशनुमा ने एक सुंदर सी बेटी को जन्म दिया। बेटी का जन्म कमलाराजा अस्पताल में ऑपरेशन से हुआ था। मां और बेटी दोनों स्वस्थ्य थीं। नर्सिंग स्टाफ के गहने पर लाल मोहम्मद सोमवार दोपहर करीब 3 बजे रूम नंबर-4 में टीका लगवाने पहुंचे। चार दिन की बच्ची को एक टीका कंधा और दूसरा पैर में लगाया गया था। टीका लगाने के 30 मिनट बाद ही बच्ची का शरीर नीला पड़ने लगा। करीब 3 घंटे बाद बच्ची पूरी नीली पड़ गई और उसकी मौत हो गई। जिससे परिजन आक्रोशित हो गए।
ढाई घंटे एक विभाग से दूसरे विभाग पहुंचाते रहे डॉक्टर
- इस मामले में सिस्टम ने भी बच्ची जान लेने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। बच्ची के पिता लाल मोहम्मद का कहना है कि जब टीका लगाने के बाद बच्ची नीली पड़ने लगी तो वहीं डॉक्टर को पूरी बात बताई तो उन्होंने चैक करने के बदले बाल एवं शिशु रोग विभाग भेज दिया। वहां पहुंचे तो उन्होंने दूसरे विभाग भेज दिया। करीब ढाई घंटे तक किसी ने बच्ची को न तो देखा न ही उसे बचाने के लिए प्रयास किए। जब आखिर में देखा तो डॉक्टर ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया।
हंगामा पर ड्यूटी रूम छोड़कर भागे डॉक्टर
- बच्ची की मौत के बाद आक्रोशित परिजन ने हंगामा खड़ा कर दिया। इस पर वहां मौजूद डॉक्टर ड्यूटी रूम छोड़कर ही भाग गए। करीब 3 से 4 घंटे KRH के लेबर रूम में हंगामा चलता रहा। पुलिस ने सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और स्थित को संभाला। पुलिस ने आक्रोशित परिजन को संभाला और मामले को शांत कराया। साथ ही आवेदन लेकर जांच शुरू करने का आश्वासन दिया। तब जाकर हालात सामान्य हो सके। इधर जेएएच के पीआरओ डॉ. देवेन्द्र कुशवाह का कहना है कि मामले की जांच करा रहे हैं। बच्ची के परिजन ने जो आरोप लगाए हैं। उसकी भी जांच की जा रही है। जो दोषी होगा उस पर कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...