पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Government Was Duped Of Thousands Of Rupees By Making Job Cards In The Name Of Children, EOW Lodged FIR

ग्वालियर में सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक फंसे:बच्चों के नाम से जॉब कार्ड बनाकर सरकार को लगाया हजारों रुपए का चूना, EOW ने दर्ज की FIR

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो
  • गांव किठौदा, भितरवार का मामला, कुछ दिन पहले हुई थी शिकयत

ग्वालियर में भितरवार के किठौदा गांव के सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक के खिलाफ EOW ने भ्रष्टाचार व धोखाधड़ी की FIR दर्ज की है। इन्होंने बच्चों के दस्तावेज पर फर्जी मस्टर रोल व जॉबकार्ड बनाकर शासन को हजारों रुपए का चूना लगाया। इस मामले में एक शिकायत EOW को की गई थी। जिस पर जांच के बाद यह मामला दर्ज किया गया है। भ्रष्टाचार व धोखाधड़ी की घटना भितरवार तहसील के किठौदा गांव की है।

भितरवार सर्कल के किठौदा में रहने वाले अशोक सिंह पुत्र जानकी प्रसाद और कमल सिंह पुत्र नारायण सिंह जाटव ने EOW विभाग में शिकायत की थी कि भितवार में जॉबकार्ड के नाम पर हजारों रुपए का घपला कर शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाई गई है। कई ऐसे लोगों के जॉबकार्ड बना दिए गए, जो मजदूरी करने गए ही नहीं। इतना ही नहीं 18 साल से कम उम्र के नाबालिगों के नाम से भी मस्टर रोल और जॉब कार्ड बनाकर शासन को चूना लगाया गया है। उसने जब सरपंच के सामने विरोध किया तो उसकी बात को अनसुना कर दिया गया। जब सुनवाई नही हुई तो उनके द्वारा EOW में शिकायत की गई। जब EOW की टीम ने जांच की तो पता चला कि सचिव, सरपंच और रोजगार सहायक की मिलीभगत से नाबालिग बच्चों के फर्जी मस्टर रोल व जॉबकार्ड बनाकर बिना मजदूरी के 46 हजार 396 रुपए हड़प कर शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाई गई।

इन पर हुई FIR

  • EOW की टीम ने सरंपच देवकुमारी पत्नी रमेश परिहार, सचिव धनेन्द्र सिंह रावत, और रोजगार सहायक भीकम सिंह जाटव सभी निवासी गांव किठौदा भितवार के खिलाफ भ्रष्टाचार की धारा 420 (धोखाधड़ी) सहित 409, 467, 468, 471, 120 बी के तहत मामला दर्ज किया गया है।

फर्जी नाम से बना लिए जॉब कार्ड

जॉब कार्ड बनाने के लिए जिन बच्चों के नाम लिखे गए थे। उस नाम का कोई बच्चा ही नहीं था। सिर्फ रजिस्टर में नाम लिखकर उनके नाम से मजदूरी हड़पी गई। साथ ही नाबालिग को बालिग दिखाया गया है। जब इस मामले में सभी दस्तावेज जब्त कर बारीकी से जांच की जाएगी तो भ्रष्टाचार की परतें खुलती जाएंगी।

खबरें और भी हैं...