पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Guide Line And Management Plan Will Be Made While Maintaining The Heritage, The Team Will Come To The City On 27th For The Survey

हिस्टोरिक अर्बन लैंडस्केप स्कीम:हैरिटेज को कायम रखते हुए बनेगी गाइड लाइन और मैनेजमेंट प्लान, सर्वे के लिए शहर में टीम 27 को आएगी

ग्वालियर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • यूनेस्को के प्रतिनिधियों के साथ मुख्यमंत्री व पर्यटन मंत्री ने किया वर्चुअल शुभारंभ

पुराने गली मोहल्लों में बाकी रहे एतिहासिक घर, बाड़ा, बैजाताल, स्वर्ण रेखा नदी की तरह और भी हैरिटेज महत्व के स्थानों का सर्वे यूनेस्को की टीम करेगी। यह प्रक्रिया 27 जुलाई से प्रारंभ होकर अगले नबंवर तक चलेगी। इसके बाद हिस्टोरिक लैंडस्केप स्कीम का ड्राफ्ट तैयार होगा।

इसके लिए मंगलवार को यूनेस्को की हिस्टोरिक अर्बन लैंडस्केप स्कीम का वर्चुअल शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर ने किया। कार्यक्रम में चौहान ने कहा कि धार्मिक और ऐतिहासिक पर्यटन को यूनेस्को के प्रयास से बढ़ावा मिलेगा। ग्वालियर और ओरछा का चयन हिस्टोरिक अर्बन लैंडस्केप डेवलपमेंट के लिए किया गया है। इससे मप्र में पर्यटन के क्षेत्र में विकास होगा। रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे।

टाइम लाइन... इस तरह आगे बढे़गा काम

  • 4 सदस्यीय एक्सपर्ट की टीम 27-28 को ग्वालियर आएगी। लोगों की राय के आधार पर सर्वे सितंबर तक चलेगा। इसके बाद थ्रीडी इमेजिंग का काम होगा।
  • डाटा कलेक्शन के बाद अक्टूबर-नवंबर में प्रजेंटेशन तैयार होगा। दिसंबर तक पहला ड्राफ्ट तैयार हो जाएगा।
  • दिसंबर अंत तक फीडबैक टीम फिर शहर में आएगी।
  • यूनेस्को मई तक गाइड लाइन तैयार कर लेगा। इसकी कुछ सिफारिशें मैनेजमेंट प्लान बनाते वक्त साझा की जाएंगी।

यूनेस्को सिर्फ राय देगा, फंड नहीं...

ऐतिहासिक स्थानों के आसपास शौचालय, पानी, दुकान, रेस्ट हाउस, स्टेज, ओपन एयर थियेटर, पहुंच मार्ग, सौंदर्यीकरण, लैंडस्केपिंग के लिए फंड यूनेस्को नहीं देगा। यह काम स्वच्छ भारत मिशन, सांसद-विधायक निधी, जनभागीदारी, स्थानीय निकाय आदि के बजट से होगा।

सर्वे के बाद शुरू होगा काम

नगरीय विरासतों के संरक्षण, पर्यटन व सांस्कृतिक क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा मिलेगा। यूनेस्को की टीम ऐतिहासिक इमारतों के दस्तावेज इकट्‌ठे कर उनका सर्वेक्षण करेगी ताकि सामुदायिक जरूरतों के मुताबिक उन्हें उपयोगी बनाया जा सके। -निशांत उपाध्याय, (धरातल) यूनेस्को के सलाहकार

हेरिटेज को कायम रखते हुए गाइड लाइन तैयार करने का काम मई 2022 तक पूरा कर लेने पर चर्चा हुई है। इसके साथ ही मैनेजमेंट प्लान भी बनेगा कि शहर में कैसे क्या होगा ? यूनेस्को की टीम 27-28 जुलाई को ग्वालियर के एतिहासिक स्थानों का सर्वे करेगी। इसके बाद यह सिलसिला प्रारंभ हो जाएगा। -आशीष सक्सेना, संभागायुक्त

गाइड लाइन और मैनेजमेंट प्लान मिलने के बाद हम उस पर अमल की तैयारी करेंगे। अभी जो शहर यूनेस्को की हिस्टोरिक अर्बन लैंडस्केप स्कीम में शामिल हैं वहां के अनुभव भी शेयर करेंगे। फंडिंग के लिए विभागीय योजनाओं से मदद लेंगे। -कौशलेंद्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...