पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लैंड रिकॉर्ड विभाग जल्द ही शासन को भेजेगा प्रस्ताव:पटवारियों के रिक्त पदों की संख्या 1000 से बढ़ाकर 5000 की जाएगी

ग्वालियर7 दिन पहलेलेखक: अभिषेक शर्मा
  • कॉपी लिंक
मप्र में एक बार फिर से बड़ी संख्या में पटवारियों की भर्ती की जा सकती है। - Dainik Bhaskar
मप्र में एक बार फिर से बड़ी संख्या में पटवारियों की भर्ती की जा सकती है।
  • मिलेगा रोजगार- मध्यप्रदेश में पटवारियों की बड़े पैमाने पर भर्ती की तैयारी

मप्र में एक बार फिर से बड़ी संख्या में पटवारियों की भर्ती की जा सकती है। इसके लिए लैंड रिकॉर्ड विभाग ने एक योजना तैयार की है, जिसमें रिक्त पदों की संख्या एक हजार से बढ़ाकर 5 हजार किए जाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।

इस बार यह भर्ती एक साथ न करते हुए अलग-अलग फेज में कराई जाएगी। इसका प्रस्ताव जल्द ही शासन को भेजा जाएगा। जिसके बाद वित्त विभाग पदों की स्वीकृति के लिए बजट आवंटन करेगा और कैबिनेट की मंजूरी के बाद ही भर्ती परीक्षा के लिए लैंड रिकॉर्ड विभाग द्वारा प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) को लिखा जाएगा। इसके पीछे मकसद पटावारियों पर बढ़ते काम के बोझ को कम करना आैर कार्य की गुणवत्ता में सुधार लाना है। वर्तमान में प्रदेश के अधिकतर जिलों में एक पटवारी के जिम्मे दो से तीन पंचायतें हैं। उल्लेखनीय है कि पटवारियों की भर्ती परीक्षा आखिरी बार नवंबर 2017 में आयोजित हुई थी। इस परीक्षा के जरिए लगभग 9 हजार पदों पर पटवारियों को भर्ती किया गया था। लेकिन उनमें से कुछ पदों को लेकर उम्मीदवारों का लैंड रिकॉर्ड विभाग से अभी तक विवाद चल रहा है और कुछ उम्मीदवारों ने कोर्ट की शरण ली है।

दरअसल मप्र में लगभग 22 हजार पंचायतें हैं। इनके मुकाबले पटवारियों की संख्या सिर्फ 19 हजार है। वहीं तेजी से बढ़ते शहरीकरण की वजह से भी शहरी इलाकों में भी विभिन्न दायित्वों के लिए पटवारियों की जरूरत है।

कमिश्नर बोले-भर्ती परीक्षा की प्रक्रिया भी चल रही है
राजस्व के कामकाज को बेहतर बनाने के लिए हमें पटवारियों के नए पद सृजित करना पड़ेंगे। वर्तमान में रिक्त पद 1 हजार हैं और उन्हें बढ़ाने का प्रस्ताव शासन को भेजने के लिए तैयार कर लिया गया है। एक पंचायत पर एक पटवारी पदस्थ करने के लिए हमें चार हजार नए पद सृजित करना होंगे। इसके लिए प्रक्रिया चल रही है। इसके साथ ही भर्ती परीक्षा के लिए भी प्रक्रिया जारी है।
-ज्ञानेश्वर बी.पाटिल, कमिश्नर, लैंड रिकॉर्ड विभाग, मप्र

खबरें और भी हैं...