• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Woman Ran In Front Of The Train, The Man Who Went To Save Her Was Also Cut Off, The Neighbors Are Dead, The Police Is Finding Out The Connection Between The Two

महिला-पुरुष ट्रेन की चपेट में आए, मौत:ट्रेन के सामने दौड़ी महिला, बचाने गया पुरुष भी कटा, आपस में पड़ोसी हैं दोनों

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूरन और नीलम के शव ट्रेन से इस तरह कट गए कि उनको पॉलिथिन और गठरी में  भरकर पोस्टमाॅर्टम के लिए लाया गया - Dainik Bhaskar
पूरन और नीलम के शव ट्रेन से इस तरह कट गए कि उनको पॉलिथिन और गठरी में भरकर पोस्टमाॅर्टम के लिए लाया गया

ग्वालियर के बिरला नगर रेलवे स्टेशन पर गुरुवार सुबह एक महिला और पुरुष ट्रेन के इंजन की चपेट में आ गए। दोनों इंजन की चपेट में इस तरह आए हैं कि शव को पॉलिथिन और कपड़े की गठरी में समेटकर पीएम के लिए ले जाना पड़ा है। प्रत्यक्षदर्शियों ने GRP पुलिस को बताया है कि ट्रेन का इंजन देखते ही महिला ने पटरी पर दौड़ लगा दी।

बचाने के लिए आदमी भी पीछे भागा। दोनों इंजन की चपेट में आए और कटते चले गए। महिला की उम्र 45 और पुरुष की उम्र 57 साल है। दोनों एक ही मोहल्ले और बाल्मीकि जाति के हैं। दोनों नगर निगम के कर्मचारी भी हैं। एक ही वार्ड में ड्यूटी करते हैं। गुरुवार सुबह ड्यूटी के लिए निकले थे। अब पुलिस यही पता लगा रही है कि उनके बीच कनेक्शन क्या था। दोनों ड्यूटी से स्टेशन कैसे पहुंचे और पटरी पर मौत हादसा है या खुदकुशी।

नीलम बाल्मीकि सुबह घर से ड्यूटी जाने की कहकर निकली थी।
नीलम बाल्मीकि सुबह घर से ड्यूटी जाने की कहकर निकली थी।

ग्वालियर में जीआरपी (गर्वमेंट रेलवे पुलिस) को सुबह सूचना मिली थी कि बिरला नगर रेलवे स्टेशन प्लेटफाॅर्म नम्बर-3 के पास ट्रेन से कटने पर 2 लोगों की मौत हुई है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर जा पहुंची। जहां दोनों पुरुष और महिला के शव क्षत-विक्षत हालत में रेलवे ट्रैक पर पड़े थे। दोनों के शरीर ट्रेन से इतने कट गए थे कि पुलिस को 7 बड़े पॉलीथिन बैग में उनके टुकड़ों को इकट्ठा कर रखना पड़ा।

मृतकों की पहचान पूरन पारछे (57) और महिला नीलम देवी बाल्मीकि (45) के रूप में हुई। दोनों ही घासमंडी के रहने वाले थे। पूरन नगर निगम के जोन-2 स्थित वार्ड-9 में WHO (सफाई दरोगा) का काम करता था। वहीं, महिला भी नगर निगम में ठेके पर सफाई कर्मचारी थी। दोनों गुरुवार सुबह एक साथ ड्यूटी पर जाने के लिए निकले थे।

पुलिस को कुछ प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि महिला इंजन के सामने आ गई थी। उसे बचाने के लिए पुरुष पहुंचा था। इसके चलते दोनों ट्रेन की चपेट में आ गए। दोनों की ही घटनास्थल पर मौत हो गई, लेकिन पुलिस को यह मामला प्रेम प्रसंग का नजर आ रहा है। फिलहाल, पुलिस ने दोनों के शवों को पोस्टमार्टम हाउस भेजकर मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

घटना के बाद हादसे की जांच करती जीआरपी पुलिस।
घटना के बाद हादसे की जांच करती जीआरपी पुलिस।

पड़ोसियों ने धमकी दी थी अपनी मां को समझा लेना
मामले में पुलिस मृतकों के बीच कनेक्शन तलाश रही है। नीलम के बेटे निखिल बाल्मीकि के मुताबिक सुबह मां ड्यूटी पर जाने के लिए घर से निकली थी। कुछ देर बाद ट्रेन से कटने की सूचना मिली। निखिल ने आरोप लगया कि पूरन पारछे के बेटों ने कल मुझे कहा था कि अपनी मां को समझा ले। ऐसा उन्होंने क्यों कहा, मुझे नहीं पता और मैं घर चला गया।

GRP का कहना
मामले में DSP जीआरपी शोभा श्रीवास्तव का कहना है कि महिला इंजन के सामने आ गई थी। उसे बचाने के लिए पुरुष पहुंचा था। पता किया जा रहा है यह लोग वहां तक कैसे और क्यों पहुंचे।

खबरें और भी हैं...