• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • There Is A Risk Of Clotting In Patients With Low Platelets, The Expert Said Get The Heart Patients Checked Up On Time

डेंगू का कहर:प्लेटलेट्स कम वाले मरीजों में क्लॉटिंग का खतरा विशेषज्ञ बोले- हृदय रोगी समय पर कराएं चेकअप

ग्वालियरएक महीने पहलेलेखक: अभिषेक द्विवेदी
  • कॉपी लिंक

डेंगू में हार्ट पर भी असर डाल रहा है। डेंगू के कुछ मरीजाें में दिल की मांसपेशियों और धड़कन को प्रभावित कर रहा है। धड़कन में अत्यधिक उतार-चढ़ाव देखने को मिल रही है। यह परेशानी उन मरीजों में अधिक देखने को मिल रही है जो हृदय रोगी हैं। डेंगू के कारण प्लेटलेट कम होने के साथ सांस लेने में दिक्कत, चक्कर आना और घबराहट होने के साथ शरीर में सूजन देखी जा रही है।

प्लेटलेट कम होने वाले मरीजों में ब्लीडिंग के साथ क्लॉटिंग होने का खतरा बहुत अधिक बढ़ गया है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस समस्या से जूझ रहे मरीजों को डेंगू का इलाज लेने के साथ हृदय का चेकअप भी अवश्य कराना चाहिए। अगर इसे गंभीरता से नहीं लिया तो हार्ट फेलियर या हार्ट अटैक होने का खतरा अधिक बढ़ जाता है।

बुखार के साथ सीने में दर्द और घबराहट थी

थाटीपुर निवासी वेद कुमार (20) को बुखार आ गया और जब जांच कराई तो डेंगू होने की पुष्टि हुई। वेद कुमार को बुखार के साथ सीने में तेज दर्द और घबराहट हो रही थी। ईसीजी कराया तो उसमें कमी आई। धड़कन 42 प्रति मिनट आ रही थी। डेंगू के साथ हार्ट अटैक का इलाज भी लिया।

हृदय पंपिंग ठीक तरीके से नहीं कर रहा था

मुरार निवासी राजकुमार (30)को डेंगू हुआ था। इस दौरान उनका हृदय पंपिंग ठीक तरीके से नहीं कर रहा था। ज्यादा परेशानी होने पर जब राजकुमार ने ईसीजी कराई, उसमें कमी आई तथा मांसपेशियों में सूजन भी थी। डेंगू के साथ हृदय संबंधी परेशानी का इलाज भी करना पड़ा। अब वे ठीक हैं।

सीने में दर्द और धड़कन कम हो तो विशेषज्ञ को दिखाएं

डेंगू के मरीज को यदि सीने में दर्द हो और धड़कन कम हो तो ऐसे रोगी को हृदय रोग विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए। कुछ मरीजों में प्लेटलेट्स कम होने पर क्लॉटिंग की भी शिकायत मिल रही है। इसलिए डेंगू पीड़ित के सीने में दर्द या सांस लेने में तकलीफ हो तो मेडिसिन विशेषज्ञ के साथ हृदय रोग विशेषज्ञ की भी सलाह लेनी चाहिए।
-डॉ. प्रतीक भदौरिया, वरिष्ठ कार्डियोलॉजिस्ट

खबरें और भी हैं...