पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • There Is Also Diabetes Detected After Having Keraena, Diabetes Patients Increased Due To Stress, But It Is Not Known By Not Having An Investigation.

कहीं आप बीमार तो नहीं:काेराेना होने के बाद पता चला डायबिटीज भी है, तनाव के कारण बढ़े डायबिटीज के रोगी, लेकिन जांच न कराने से पता नहीं लगता

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में डायबिटीज के मरीज बढ़ रहे हैं, लेकिन ज्यादातर काे ये जानकारी ही नहीं है कि वे डायबिटिक हैं। हाल में ऐसे लाेग जब काेराेना वायरस से संक्रमित हुए और उन्हें सुपर स्पेशलिटी हाॅस्पिटल में भर्ती कराया गया ताे उन्हें डायबिटीज हाेने की पुष्टि हुई। 10 में से एक मरीज काे यह पता ही नहीं था कि उनका शुगर लेवल बढ़ा हुआ है।

वजह- इससे पहले उन्होंने कभी डायबिटीज की जांच नहीं कराई। विशेषज्ञों का कहना है कि जिन मरीजों में छुपी हुई डायबिटीज है, उन्हें कोरोना संक्रमण होने पर वह अधिक घातक हो सकती है। इसलिए हर व्यक्ति को हर छह माह में डायबिटीज की जांच करानी चाहिए। अगर आपकाे स्वास्थ्य संबंधी कोई परेशानी हो रही है तो डायबिटीज की भी जांच कराना आपके हित में हाेगा।
परिवार में किसी काे डायबिटीज है ताे कराएं जांच: डाॅ. अजयपाल
सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में कोविड मरीजों का इलाज कर रहे मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. अजय पाल सिंह के मुताबिक लाेग डायबिटीज की जांच अपने स्तर पर नहीं कराते। न इसे गंभीरता से ले रहे हैं। इस कारण ऐसे लाेगाें को अन्य बीमारियां भी आसानी से हो सकती हैं। जिन मरीजों के माता-पिता या परिवार में किसी को डायबिटीज है उन्हें डायबिटीज की जांच 40 साल की उम्र के बाद हर छह माह में करानी चाहिए। इसी तरह मोटापे से पीड़ित व्यक्ति और जिन व्यक्तियों का लिवर फैटी है।

उन्हें भी डायबिटीज की जांच करानी चाहिए। जिन महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान शुगर बढ़ गई हो उन्हें भी विशेष सावधानी बरनती चाहिए। डॉ. सिंह का कहना है कि ऐसे लोगों में जब कोरोना या अन्य कोई बीमारी होती है तो वे तनाव में आ जाते हैं। इस कारण डायबिटीज बढ़ जाती है, जिससे कोरोना का संक्रमण और अधिक होने की आशंका प्रबल हो जाती है।
ड्रॉपलेट्स इंफेक्शन है कोरोना वायरस इसलिए बरतें सावधानी: डॉ. पहारिया
जीआरएमसी के दंत रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. योगेंद्र पहारिया का कहना है कि कोरोना ड्रापलेट्स इंफेक्शन है, जो सिलायवा के माध्यम से फैलता है। हर व्यक्ति को विशेषकर तंबाकू खाने वालों को वर्तमान परिवेश में तंबाकू बंद कर देना चाहिए। अगर वह तंबाकू खा भी रहे हैं तो उसे चबाकर थूकने की आदत बदलनी होगी। जगह-जगह थूकना नहीं चाहिए। इससे वह खुद को संक्रमित होने से बचेंगे ही साथ ही दूसरे भी संक्रमित नहीं होंगे।
उदाहरण: 52 साल के मरीज काे डायबिटीज थी पर पहले से पता नहीं था

मुरैना निवासी 52 वर्षीय राजेश काे संक्रमण हाेने के बाद ग्वालियर लाया गया। जांच में पता चला कि उसे डायबिटीज है जबकि उसे इसकी पहले से जानकारी नहीं थी। इस कारण पहले उसने डायबिटीज कंट्राेल करने की दवाएं नहीं ली थी। इलाज के दाैरान राजेश की माैत हाे गई थी। इसी तरह 46 वर्षीय एक अन्य मरीज का शुगर बढ़ा मिला।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें