• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • There Were Injury Marks On The Head, The Tire Of The Tire Was Tightened In The Neck, The Body Was Thrown Here After Killing The Apprehension

ग्वालियर रेलवे लाइन पर मिली लाश:सिर पर चोट के निशान, गले में कसा था टायर का ट्यूव, आशंका हत्या कर यहां फेंका गया है शव

ग्वालियर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना स्थल और जांच करते अधिकारी - Dainik Bhaskar
घटना स्थल और जांच करते अधिकारी
  • रायरु-बानमोर रेलवे ट्रैक की घटना

ग्वालियर में रायरू-बानमोर रेलवे लाइन पर एक युवक का शव पुलिस ने बरामद किया है। युवक के सिर में चोट लगी है और गले में भी टायर का ट्यूव बंधा हुआ है। प्रारंभिक पड़ताल में साफ हो गया है कि मामला हत्या का है। घटना की जांच के लिए तत्काल फोरेंसिक एक्सपर्ट और उनकी टीम को कॉल किया गया। एक्सपर्ट ने भी घटना स्थल देखा है। जांच में यह साफ है कि युवक की हत्या हुई है। पुलिस ने शव को निगरानी में लेकर जांच को आगे बढ़ाया तो मृतक की जेब से मिला ई-श्रम कार्ड से उसकी शिनाख्त हुई है। पुलिस ने मृतक के परिजन को सूचना दे दी है।
बानमोर थाना प्रभारी वीरेश सिंह ने बताया कि सोमवार को आरपीएफ ग्वालियर ने सूचना दी थी कि रायरु-बानमोर रेल सेक्शन के किलोमीटर नंबर 1241/21-23 अप ट्रैक से सौ मीटर दूरी पर एक युवक का शव पड़ा हुआ है। शव मिलने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची। जांच की तो युवक की हत्या कर लाश को यहां पर फेंके जाने के साक्ष्य मिले। जिस पर एफएसएल टीम के साथ ही वरिष्ठ अफसरों को सूचना दी। सूचना मिलते ही एफएसएल टीम के साथ ही फिंगरप्रिंट व अफसर मौके पर पहुंचे और जांच के बाद मृतक की लाश निगरानी में लेकर पीएम हाउस पहुंचाई।
ई श्रम कार्ड से हुई शिनाख्त
पुलिस ने मृतक की शिनाख्ती के लिए पहले आस-पास के लोगों से शिनाख्ती के प्रयास किए, लेकिन शिनाख्त नहीं होने पर मृतक की तलाशी ली तो उसके पास से ई श्रम कार्ड, मोबाइल तथा अन्य दस्तावेज मिले। जिससे उसकी पहचान सोनभद्र यूपी निवासी संतोष कुमार पुत्र कामता प्रसाद के रूप में हुई। शिनाख्त होते ही मृतक के परिजन को सूचना दे दी गई है।
आशंका गला दबाकर या सिर की चोट से हुई मौत
-पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मृतक संतोष कुमार के गले में वाहन के टायर का ट्यूब कसा हुआ था, साथ ही उसके सिर में काफी चोटें थीं, जिससे प्रतीत होता है कि उसकी हत्या करने के बाद हत्यारे शव को रेलवे ट्रैक के किनारे फेंक गए होंगे। परिजन से बातचीत में पता चला है कि मृतक संतोष फैक्ट्रियों में लेबर सप्लाई करता था। परिजनों के आने पर ही पता चल पाएगा कि मृतक किसी ट्रेन में सफर कर रहा था या फिर औद्यौगिक क्षेत्र बानमोर में रहकर लेबर सप्लाई का काम करता था।

खबरें और भी हैं...