पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • This System Will Automatically Increase The Time Of Green Signal If The Load Of Vehicles Is High.

ट्रैफिक व्यवस्था:वाहनाें का लोड ज्यादा हाेने पर ये सिस्टम ग्रीन सिग्नल का समय खुद बढ़ा देगा

ग्वालियर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के 27 तिराहे-चाैराहाें पर फोर डी रडार सिस्टम लगाया

यदि रेड सिग्नल के बाद किसी चौराहे और तिराहे पर वाहनों की कतार ज्यादा लंबी है तो इन वाहनाें काे निकालने के लिए ग्रीन सिग्नल का टाइम स्वत: ही बढ़ जाएगा। इससे कतार में खड़े सारे वाहन निकल जाएंगे। यह संभव हाेगा, फोर-डी रडार सिस्टम से, जिसे अब शहर के 27 चौराहे और तिराहाें पर लगे आईटीएमएस में लगा दिया गया है। ग्वालियर स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पोरेशन 52 करोड़ रुपए खर्च कर 31 जगह आईटीएमएस लगा रहा है।

इनमें से 27 जगह काम पूरा हो चुका है, लेकिन कुछ चौराहे और तिराहों पर वाहनों की कतारें लग जाती हैं। ग्रीन सिग्नल का टाइम कम होने से पूरे वाहन चौराहे को क्रॉस नहीं कर पाते हैं। इस कारण फोर-डी रडार सिस्टम लगाया गया है। इसके माध्यम से ट्रैफिक सिग्नल ऑटोमेटिक ही वाहनों का लोड समझकर बदलेगा। यह सिस्टम ट्रैफिक निकालने के लिए ग्रीन सिग्नल के टाइम को बढ़ा देगा।

ऐसे काम करेगा रडार

हर रडार लेजर के माध्यम से 175-200 मीटर की दूरी को कवर करेगा। इसमें वाहनों की गणना होगी।

ट्रैफिक सिग्नल पर ग्रीन लाइट का न्यूनतम टाइम 25 सेकेंड है। यदि किसी चौराहे पर एक लाइन में खड़े वाहन 15 सेकेंड में क्लियर होते हैं तो शेष टाइम दूसरे सिग्नल की तरफ डायवर्ट हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...