पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • To Come On Top In Cleanliness, Attention Will Have To Be Paid On Segmentation, 200 Numbers Will Be Benefited

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बदलाव:स्वच्छता में टॉप पर आने के लिए सेग्रीगेशन पर देना होगा ध्यान, 200 नंबर का मिलेगा फायदा

ग्वालियर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • देश में 4 मार्च से शुरू होगा सर्वे, 6000 अंक में सबसे ज्यादा 2400 सर्विस लेवल प्रोग्रेस के रहेंगे

स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 में 6000 अंक के लिए परीक्षा होने जा रही है। इस परीक्षा में टॉप पर आने के लिए एक-एक नंबर की जरूरत पड़ेगी। इस बार निगम का सेग्रीगेशन (सूखा-गीला कचरा) पर भी ज्यादा ध्यान है, क्योंकि इस पर अभी ज्यादा काम नहीं हुआ है। लाेग सूखा-गीला कचरा ही नहीं खतरनाक कचरा भी बिना अलग किए गाड़ी में डाल रहे हैं।

जबकि इसके 200 अंक निर्धारित किए गए हैं। शहर के नाले और नालियों की सफाई भी जरूरी है, क्योंकि इसके 80 नंबर हर सिटी को मिलना है। अभी कई जगह नाले-नालियों में कचरा पड़ा नजर आ जाता है। देश में स्वच्छ सर्वेक्षण 4 मार्च से प्रस्तावित है।

शहर में डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन को बेहतर बनाने के लिए 50 नई गाड़ियां खरीदी जाएंगीं। पिछले दिनों नगरीय आवास एवं विकास विभाग आयुक्त निकुंज श्रीवास्तव ने इसे स्वीकृति दी थी। मुख्यमंत्री रविवार को इसकी घोषणा कर सकते हैं।

अबकी बार तीन कैटेगरी
साल 2020: पिछले साल के सर्वेक्षण में चार कैटेगरी के लिए 6000 नंबर तय किए गए थे। इनमें सिटीजन फीडबैक, डायरेक्ट आब्जर्वेशन, सर्विस लेबल प्रोग्रेस और सर्टिफिकेशन के 1500-1500 नंबर तय किए गए थे। ग्वालियर उक्त परीक्षा में दस लाख की आबादी की केटेगरी में 13वें स्थान पर आया था।
साल 2021: इस बार भी परीक्षा 6000 नंबर की है। लेकिन कैटेगरी तीन ही रखी गई हैं। इनमें सर्विस लेबल प्रोग्रेस के 2400 नंबर तय किए गए हैं। सर्टिफिकेशन और शहरवासियों की आवाज के 1800-1800 नंबर हैं। उक्त कैटेगरी की सब कैटेगरी बनाई गई है। उनमें नंबरों को विभाजित किया गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें