पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

व्यापार मेला:41 दिन में 852 करोड़ के कारोबार के साथ व्यापार मेला बंद, बिजली सप्लाई काटी

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेला बंद होने के बाद झूला सेक्टर में सामान समेटते व्यापारी। - Dainik Bhaskar
मेला बंद होने के बाद झूला सेक्टर में सामान समेटते व्यापारी।
  • 5 फरवरी से शुरू हुए मेले में सबसे ज्यादा कारोबार ऑटोमोबाइल सेक्टर में हुआ

कोरोना संक्रमण के बीच लगे ग्वालियर व्यापार मेले में 41 दिन के दौरान 852 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। मेला 28 मार्च तक खत्म करने के आदेश थे लेकिन उस दिन लॉकडाउन के कारण कोई मेला नहीं गया और मेले में सैलानी व कारोबार की दृष्टि से 27 मार्च का दिन अंतिम दिन रहा। मेले में इस साल सबसे ज्यादा कारोबार ऑटोमोबाइल सेक्टर में हुआ।

इस बार 811.76 करोड़ रुपए की गाड़ियां मेले से बिकीं और प्रदेश सरकार को 41.46 कराेड़ रुपए का रोड टैक्स मिला। लॉकडाउन के कारण रविवार सुबह से ही कारोबारियों ने अपना सामान समेटना शुरू कर दिया और काफी व्यापारी अपना सामान लेकर मेले से चले गए हैं।

स्थानीय दुकानदार अभी भी अपना सामान शिफ्ट करा रहे हैं। मेला प्राधिकरण के सचिव निरंजन श्रीवास्तव का कहना है कि मेला 28 मार्च को खत्म हो चुका है। कारोबारी अपना सामान समेट रहे हैं। इस बार मेले में करीब 42 दिन के मेले में 852 करोड़ रुपए का कारोबार विभिन्न सेक्टरों में हुआ।

ऑटोमोबाइल सेक्टर: कुल 811.76 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ है। 15 हजार 836 वाहनों की बिक्री हुई जिनमें 7 हजार 862 चार पहिया और 7 हजार 974 दो पहिया वाहन शामिल हैं। इनके अलावा अन्य वाहनों की बिक्री हुई, साथ ही एक करोड़ रुपए से अधिक कीमत वाली 4 बीएमडब्ल्यू व मर्सिडीज भी मेले से बिकी हैं।

इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर: बीच में ही मेला खत्म होने का सबसे ज्यादा असर इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर के कारोबारियों पर हुआ। मेले में दो सप्ताह पहले ही इस सेक्टर ने कारोबार शुरू किया था और व्यापार बढ़ रहा था कि मेला बंद करने के आदेश हो गए। इस सेक्टर में 8 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ।

फूड सेक्टर: कोरोना के कारण देरी से शुरू हुए मेला गर्मी के सीजन में शुरू हुआ। गर्मी एवं कोरोना को देखते हुए इस साल मेले में लाेगों ने खानपान को लेकर कम ही रुचि दिखाई। जिसका सीधा असर पूरे सेक्टर पर हुआ, कई बड़े रेस्त्रां मालिक मेला बंद की घोषणा से पहले ही वापस चले गए थे। इस सेक्टर में लगभग 14 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ।

मनोरंजन सेक्टर: मेले के मनोरंजन सेक्टर में सबसे ज्यादा भीड़ झूला कैंपस में रही। लेकिन कारोबार भीड़ के अनुरूप नहीं हुआ। इसके अलावा मनोरंजन सेक्टर के दूसरे ब्लॉकों में भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। मनोरंजन सेक्टर में लगभग 10 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। जो पहले 25 से 27 करोड़ रुपए तक होता था।

शिल्प बाजार: शिल्प बाजार भी मेले के साथ ही आयोजित होता रहा। यहां हर दस दिन में अलग-अलग मेले लगे। अंत तक शिल्प बाजार में लगभग 16 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। कई राज्यों से आए शिल्पियों का सामान शिल्प बाजार में सैलानियों ने पसंद किया।

अन्य सेक्टर: मेले में लगेज, क्रॉकरी, घरेलू सामान, कपड़ा, खिलौने, फर्नीचर सहित अन्य कारोबारियों ने अपनी-अपनी दुकान लगाई थीं। इस सेक्टर में भी काफी अच्छा कारोबार रहा और व्यापारियों को 15 अप्रैल तक मेला लगने पर लॉकडाउन के लॉस से उबरने की उम्मीद थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें