AP एक्सप्रेस में आतंकी, कर्नाटक एक्सप्रेस में बम!:ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर मिला लेटर, लिखा- धमकी को मजाक में न लें, नहीं तो सब मरेंगे

ग्वालियर2 महीने पहले

‘हमने इस गाड़ी में दो बम फिट किए हैं। यदि गाड़ी की स्पीड 70 से कम हुई ताे गाड़ी ब्लास्ट हो जाएगी। हमारी इस धमकी को मजाक में न लिया जाए, नहीं तो बुरा अंजाम भुगतना पड़ेगा। सरकार यह गाड़ी न ही किसी स्टेशन पर रुकनी चाहिए। हम मजाक बिल्कुल नहीं कर रहे हैं। हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि ट्रेन में जितने भी पैसेंजर हैं, उनसे कहो कि जितना भी आप लोगों के पास पैसा है, वो बैग में भरकर पेनकुंडा रेलवे स्टेशन आने से पहले फेंक दें। हमारी इस बात को बिल्कुल भी मजाक में न लिया जाए। नहीं तो बच्चों से बूढ़े तक सब मारे जाएंगे। सरकार इस पर गौर करे। यह चेतावनी है कि कोई चेन पुलिंग करने की कोशिश न करे। आखिर में लिखा है कि बूम बम बू गुड लक।'

ये धमकी भरे शब्द उस चिट्‌ठी के हैं, जो रविवार-सोमवार की दरमियानी रात करीब 2 बजे ग्वालियर रेलवे स्टेशन के बाथरूम में मिली थी। ये चिट्‌ठी एक यात्री को मिली। उसने इसे लाकर जीआरपी को दिया। चिट्‌ठी में कर्नाटक एक्सप्रेस को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई। रेलवे स्टेशन को छावनी में तब्दील कर दिया गया।

ट्रेन के ग्वालियर स्टेशन पर पहुंचते ही सर्चिंग शुरू की गई। ट्रेन के यात्रियों की जान भी हलक में आ गई। पूरी ट्रेन को खाली करा लिया गया। BDS (बम डिस्पोजल स्क्वॉड) और डॉग स्क्वॉड ने भी छानबीन की। करीब 40 मिनट तक सर्चिंग चली। हालांकि बम नहीं मिलने के बाद पुलिस अफसरों ने राहत की सांस ली। सर्चिंग में कुछ नहीं मिलने पर ट्रेन को रवाना किया गया। हालांकि पुलिस अलर्ट मोड पर है।

यह लेटर ग्वालियर स्टेशन के बाथरूम में मिला था।
यह लेटर ग्वालियर स्टेशन के बाथरूम में मिला था।

एक घंटे पहले AP एक्सप्रेस में आतंकी होने की खबर मिली

रेल डीएसपी शुभा श्रीवास्तव व RPF निरीक्षक संजय सिंह आर्या ने बताया कि रात करीब 1 बजे आगरा कंट्रोल रूम से सूचना मिली। बताया गया था कि AP एक्सप्रेस के AC कोच ए-1 में अलकायदा संगठन का आंतकवादी हथियारों के साथ सफर कर रहा है। वह स्वतंत्रता दिवस पर हैदराबाद में वारदात को अंजाम देने वाला है। इस पर ग्वालियर, डबरा और झांसी रेलवे स्टेशन को संबंधित प्लेटफाॅर्म को छावनी में तब्दील कर दिया। रात 1 बजे के करीब ट्रेन के ग्वालियर पहुंचते ही ट्रेन को निगरानी में ले लिया।

यात्री ने AP एक्सप्रेस का यह दृश्य बताया

आगरा कंट्रोल रूम को सूचना देने वाले यात्री गुरुदत्त ने बताया कि वह दिल्ली से गाड़ी संख्या (20806) में आगरा के लिए बैठा था। कोच संख्या CA-1 की सीट नंबर 7 पर बैठा था। सामने की सीट नंबर 12 पर मुसाफिर बैठा था, जो शक्ल से अलकायदा संगठन के लग रहे थे, जो कि मैंने इनकी फोटो 7 अगस्त को दिल्ली स्टेशन पर देखी थी। जैसे ही, आगरा स्टेशन पर उतरा, तो यह सूचना मैंने गेट पर बैठे पुलिसकर्मी को दी। उसने मुझे आगरा कैंट रेलवे स्टेशन आरपीएफ के पास पहुंचा दिया। इसकी सूचना आरपीएफ निरीक्षक श्रीपाल सिंह को दी है।

सूचना के बाद झांसी स्टेशन पर ट्रेन में छानबीन करते अफसर
सूचना के बाद झांसी स्टेशन पर ट्रेन में छानबीन करते अफसर

कोच खाली कराकर की सर्चिंग

मौके पर बम स्क्वॉड भी बुला लिया गया। ट्रेन के ग्वालियर पहुंचते ही कोच को खाली कराया गया। करीब आधा सैकड़ा से अधिक अफसरों, जवानों के साथ ही बम डिस्पोजल व डॉग स्क्वाॅड के जवानों ने तलाशी ली। हालांकि इस दौरान संदिग्ध वस्तु या व्यक्ति नहीं मिला। इसके बाद अफसरों ने राहत की सांस ली। इस दौरान करीब 15 से 20 मिनट तक तलाशी के बाद ट्रेन को रवाना किया गया। झांसी रेलवे स्टेशन पर भी AP एक्सप्रेस को 40 मिनट रोक कर कोचों और टाॅयलेट की तलाशी ली गई। आरपीएफ कमांडेंट से क्लीयरैंस मिलने के बाद ट्रेन रवाना की गई।

खबरें और भी हैं...