• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • When She Went To Fill The Examination Form In KRG College, She Said – You Have Not Been Admitted, The Student Had Taken Admission In BA First Year In 2020 21

संकट में छात्रा के दो साल:केआरजी काॅलेज में परीक्षा फार्म भरने गई तो कहा-आपका प्रवेश नहीं हुआ है, छात्रा ने 2020-21 में बीए प्रथम वर्ष में लिया था प्रवेश

ग्वालियर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
केआरजी कॉलेज (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
केआरजी कॉलेज (फाइल फोटो)

केआरजी कॉलेज में दो साल तक एक छात्रा पढ़ती रही, लेकिन जब वह बीए दूसरे वर्ष का परीक्षा फार्म भरने गई तो उससे प्रोफेसरों ने कह दिया कि आपका कॉलेज में प्रवेश नहीं है। इस बात को लेकर शनिवार को बीए दूसरे वर्ष की छात्रा याशिका प्रजापति बिफर गई। छात्रा का कहना था कि उसे शासन दो साल से बीए में प्रवेश लेने के नाम पर ही छात्रवृत्ति प्रदान कर रहा है।

उसने सत्र 2020-21 में बीए पहले वर्ष में प्रवेश लिया था। साथ ही निर्धारित तारीख में टीसी व अन्य दस्तावेज जमा किए, लेकिन कॉलेज के कर्मचारियों ने ऑनलाइन टीसी सबमिट नहीं की। जिस कारण वह परीक्षा फार्म भरने से वंचित हो गई। छात्रा के दो साल कॉलेज प्रशासन की लापरवाही से बर्बाद हो सकते हैं? क्योंकि पहले वर्ष की छात्रा को मार्कशीट नहीं मिली। वह दूसरे वर्ष के परीक्षा फार्म जमा नहीं कर पाई है।

ओबीसी महासभा ने दी आंदोलन की चेतावनी
ओबीसी महासभा के जिलाध्यक्ष राजेश कुशवाह ने केआरजी कॉलेज प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि बीए की छात्रा याशिका प्रजापति को न्याय नहीं मिला तो वे आंदोलन करेंगे। कॉलेज में तालाबंदी भी कर सकते हैं। इसके लिए कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. एमआर कौशल को 7 दिन का समय दिया है।

छात्रा के प्रिंसिपल से सवाल व जवाब

छात्रा: कॉलेज में प्रवेश नहीं था, तो बीए पहले वर्ष में उसके आंतरिक परीक्षा की उत्तर पुस्तिका कैसे जमा की गईं?
प्रिंसिपल:
जब तक ऑनलाइन टीसी कॉलेज के माध्यम से जमा नहीं की जाती तब तक प्रवेश पक्का नहीं माना जाता। कोरोना के दौर में हाे सकता है आंतरिक परीक्षा की उत्तर पुस्तिका जमा हो गईं हो, लेकिन इसका यह मतलब नहीं की प्रवेश हो गया था।

छात्रा: दो साल से छात्रवृत्ति कैसे मिल रही है?
प्रिंसिपल:
2020-21 में प्रवेश लेने वाली ऐसी 141 छात्राएं हैं, जिन्होंने टीसी जमा नहीं की थी। इससे उनके प्रवेश निरस्त कर दिए गए थे। इसकी सूची कॉलेज में चस्पा की गई थी। छात्रवृत्ति शासन द्वारा जारी की जा जाती है। इसमें काॅलेज का कोई रोल नहीं है।

छात्रा की मांग पर जांच के निर्देश दिए हैं
छात्रा की मांग पर परीक्षा नियंत्रक को जांच के निर्देश दिए हैं। साथ ही पता लगाया जा रहा है कि ऑनलाइन नामांकन नंबर एलॉट किया गया था या नहीं। छात्रा टीसी जमा करने के कोई प्रमाण नहीं दिखा सकी है। -डॉ. एमआर कौशल, प्रिंसिपल, केआरजी कॉलेज

खबरें और भी हैं...