पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • With One Click Of The CM, The Relief Amount Reached The Accounts To Bring The Life Of The Flood Victims Back On Track, The CM Asked Gopal Of Bhitarwar, Got Relief Or Not.

बाढ़ प्रभावितों को अब तक 109.89 करोड़ रुपए किए वितरित:CM के एक क्लिक करते ही बाढ़ पीड़ितों की जिंदगी को वापस पटरी पर लाने के लिए खातों में पहुंच गई राहत राशि, भितरवार के गोपाल से CM ने पूछा, राहत मिली कि नहीं

ग्वालियर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कई जिलों के अफसरों और बाढ़ पीड़ितों से बात करते सीएम शिवराज सिंह - Dainik Bhaskar
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कई जिलों के अफसरों और बाढ़ पीड़ितों से बात करते सीएम शिवराज सिंह
  • - ग्वालियर में वीड़ियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए सांसर व अफसर

ग्वालियर-चंबल अंचल के साथ के साथ-साथ विदिशा जिले के बाढ़ प्रभावित लोगों की जिंदगी को वापस पटरी पर लाने के लिए सोमवार को CM शिवराज सिंह ने सिर्फ क्लिक करते हुए राहत राशि हितग्राहियांे के खाते के लिए ट्रांसफर कर दी है। इस अवसर पर ग्वालियर में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होंने बाढ़ प्रभावित लोगों सेभी बात की। ग्वालियर के भितरवार में बाढ़ पीड़ित गोपाल कुमार से CM ने बात की। CM चौहान ने गोपाल से पूछा, तत्कालीक राहत मिली कि नहीं, गोपाल ने मुस्कराते हुए कहा हां साहब मदद मिली है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ग्वालियर और चंबल संभाग के जिलों और विदिशा जिले में बाढ़ प्रभावितों को सर्वोच्च प्राथमिकता से राहत राशि और अन्य सहायता प्रदान की गई है। संबंधित जिलों के कलेक्टर सुनिश्चित करें कि कोई भी पात्र हितग्राही सहायता प्राप्त करने से चूक न जाए। CM चौहान वीडियो काँफ्रेंस के द्वारा 9 जिलों के 24 हजार 529 हितग्राहियों को 31 करोड़ 51 लाख रूपये की राहत राशि का अंतरण कर रहे थे। प्रदेश में अब तक 1 लाख 27 हजार बाढ़ प्रभावित नागरिकों को 109 करोड़ 89 लाख रूपये की राहत राशि वितरित की जा चुकी है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह कार्यक्रम में मौजूद रहे। राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत वर्चुअली शामिल हुए।
यहां ग्वालियर कलेक्ट्रेट स्थित NIC के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य एवं भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी, संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी किशोर कान्याल एवं संयुक्त कलेक्टर व राहत के नोडल अधिकारी प्रदीप सिंह तोमर, बाढ़ प्रभावित भितरवार निवासी गोपाल बाथम व ग्राम अजीतपुरा डबरा निवासी बाढ़ प्रभावित श्रीमती पान कुँअर उपस्थित थीं।
राहत राशि में गलती स्वीकार नहीं, जीरो टॉलरेंस लागू
- CM चौहान ने कहा कि प्रदेश में गत दो माह संकट के रहे हैं। एक तरफ बाढ़ की स्थिति थी, वहीं दूसरी तरफ करीब डेढ़ दर्जन जिले कम बारिश से प्रभावित हुए हैं। कोरोना का संकट भी रहा। हम नागरिकों और सरकार के लिए परीक्षा की घड़ी थी। सरकार ने प्रयास किया कि हर परिस्थिति में जनता को संकट से निकालें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विशेष योजना बनाकर बाढ़ प्रभावितों को विभिन्न तरह की क्षति के लिए राशि प्रदान करने का कार्य किया गया है। लोगों को हुए नुकसान से जिंदगी की गाड़ी पटरी से न उतरे, इसके लिए पूरी तत्परता और पारदर्शिता से राहत राशि प्रदान की गई है। पंचायत भवन पर हितग्राही सूची चस्पां कर सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित करने से किसी भी तरह की अनियमितता नहीं हो सकी। CMचौहान ने कहा कि राशि प्रदान करने के पूर्व हितग्राहियों के संबंध में दावे-आपत्ति का विकल्प भी दिया गया। कृषि फसलों की हानि के लिए अलग से राजस्व पुस्तक परिपत्र के अंतर्गत कार्यवाही हो रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राशि वितरण में किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार न हो, इसके लिए जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई गई है। विद्युत उप केन्द्रों और सड़कों आदि की बाढ़ से हुई क्षति के पश्चात पुनर्निर्माण के कार्यों को भी समय पर करना आवश्यक है। इसके लिए सभी कलेक्टर, जन-प्रतिनिधि, क्राइसिस मैनेजमेंट समूह के सदस्यों से परामर्श कर पूर्ण करें। नहरों की मरम्मत का कार्य भी युद्ध स्तर पर किया जाए।

खबरें और भी हैं...