भास्कर सर्वे:वैक्सीन लगवाने में पुरुषों की तुलना में महिलाएं पीछे, साइड इफेक्ट के डर से कई महिलाएं कर रही परहेज

ग्वालियर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कंटेनमेंट क्षेत्र बनाए गए शहर के तीन वार्डों में भास्कर ने पता लगाया कि कितने लोगों ने वैक्सीन लगवाई है? कुल 50 घरों में लोगों से संपर्क किया। इसमें 21 परिवार ऐसे हैं, जिनके सभी सदस्यों को पहली डोज लग चुकी है। साइडइफेक्ट के डर से महिलाएं वैक्सीन लगवाने से परहेज कर रही हैं।

वायु नगर: वैक्सीन लगवाने बड़े अस्पताल में जाओ एयरफोर्स के रिटायर्ड मास्टर वारंट अधिकारी सुरेंद्र चौहान (77) ने बताया कि वे डीडी नगर डिस्पेंसरी में वैक्सीनेशन के लिए गए थे। वहां स्टाफ ने कहा कि बड़े अस्पताल जाकर टीका लगवाओ। वैक्सीन से कोई समस्या हो गई तो वहां इलाज मिल सकेगा। इसलिए टीका नहीं लगवा सका।

भगत सिंह नगर: 5 में से एक ने भी नहीं लगवाई वैक्सीन
कृषि विभाग में एसएडीओ रविंद्र तोमर को पहला डोज लग चुका है, लेकिन उनकी पत्नी ने वैक्सीन नहीं लगवाया। उन्होंने कहा, अभी पति को वैक्सीन लगी है। कुछ दिन बाद मैं भी लगवा लूंगी। सीताराम शर्मा के परिवार में भी 45 वर्ष से अधिक आयु के 5 लोग हैं। लेकिन एक ने भी वैक्सीन नहीं लगवाई।

गोविंदपुरी: पोस्ट मास्टर ने पूछा, कहां लग रही है वैक्सीन
गोविंदपुरी निवासी बीएस कुशवाह ने बताया कि वे मुरार पोस्ट ऑफिस में पोस्ट मास्टर हैं। उम्र 59 वर्ष है, लेकिन टीका अभी तक नहीं लगवाया है। उन्हें तो ये भी नहीं पता कि वैक्सीन किन केंद्रों पर लग रही है। टीम ने उन्हें बताया कि वे पास ही में स्थित थाटीपुर डिस्पेंसरी जाकर टीका लगवा सकते हैं।

25000 को टीका लगाने का था लक्ष्य 15276 को ही लगे को-वैक्सीन खत्म

कोरोना से बचाव के लिए चलाए जा रहे टीका महोत्सव के दूसरे दिन सोमवार को 25 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा था। इसके लिए 206 केंद्र बनाए गए थे। इनमें से 15276 लोगों को ही टीके लगाए गए। इनमें से 14492 लोगों को पहला टीका लगाया गया,जबकि 784 लोगों को कोरोना से बचाव का दूसरा टीका लगा। दूसरा टीका लगवाने वालों में सांसद विवेक शेजवलकर भी शामिल हैं। जिले में को-वैक्सीन खत्म हो गई है, लिहाजा जो लोग को-वैक्सीन का पहला डोज लगवा चुके हैं, वे दूसरा टीका लगवाने का इंतजार कर रहे हैं। इन लोगों को दूसरा टीका कब लगेगा, इस बारे में स्वास्थ्य अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...