पंचकल्याणक महोत्सव:3 हाथी, 21 घोड़े, 18 बग्घी में निकले इंद्र - इंद्राणी, तीन किमी का रास्ता तय करने में 5.30 घंटे लगे

पिछोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कैबिनेट मंत्री राजे का जयजिनेंद्र बोलकर अभिवादन किया

शहर में पहली बार 3 हाथी, 21 घोड़े, 18 बग्घी, 5 दिव्य घोष और 3 बैंड पार्टियों के साथ बालक आदिकुमार का जुलूस निकाला गया। जिसमें ऐरावत हाथी पर सवार 100 धर्मेंद्र और सचिन रानी द्वारा लिए गए बालक आदिनाथ के दृश्य को देखने लोगों का कौतूहल लगा रहा। खास बात यह रही कि गांधी पार्क अयोध्या नगरी से शुरू हुए इस जुलूस को परिसर तक पहुंचने 3 किलोमीटर की यात्रा को पूरे साडे 5 घंटे लगे उत्साह के साथ दिव्य घोष और डांडिया की प्रस्तुतियों से इस जुलूस को ऐतिहासिक बना दिया। आयोजन में शामिल होने के लिए मध्य प्रदेश की खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया दोपहर 3 बजे जैसे ही अयोध्या नगर में बने पांडाल परिसर में पहुंची वैसे ही मौजूदा लोगों ने जय जिनेंद्र कहकर उनका अभिवादन किया।

इस दौरान उन्होंने पांडुक शिला के पास पहुंचकर सौ धर्म इंद्र, शचि इंद्राणी बने पात्र अमित जैन और अमीषा से बातचीत भी की। और प्रतीक स्वरूप रत्न भी ग्रहण किए। कुल मिलाकर यह दृश्य बड़ा मार्मिक था। इसके बाद रैंप पर चढ़कर उन्होंने लोगों का अभिवादन स्वीकार किया। और धर्म सभा में संतो को संबोधित कर कहा कि जैन धर्म अहिंसा प्रधान है। और धर्म में उनकी बेहद आस्था है। इसीलिए वह जियो और जीने दो के सिद्धांत पर काम करती हैं। वह भगवान महावीर को बहुत मानती है, जीवन में वह सतत धर्म मार्ग पर आरूढ़ रहे, और लोगों की परेशानियों का समाधान देती रहे इसका आशीर्वाद उन्होंने जैन संतों से मंच से ग्रहण किया। आयोजन के दौरान स्वागत भाषण राजकुमार जैन जड़ी-बूटी वालों ने दिया। जबकि स्मृति प्रतीक पंचकल्याणक अध्यक्ष जितेंद्र जैन गोटू ने दिया। कार्यक्रम में उनका माल्यार्पण पीत पटि्टका उड़ा कर,पगड़ी भेंट कर सम्मान कार्यवाहक अध्यक्ष अजीत चौधरी, मुख्य समन्वयक वीरेंद्र जैन पत्ते वाले, स्वागत अध्यक्ष चौधरी अरविंद जैन,महामंत्री राकेश जैन आमोल और प्रकाश जैन द्वारा किया गया।

इन मार्गो से निकली रथयात्रा

पंच कल्याण का यह जुलूस गांधी पार्क ग्राउंड से प्रारंभ होकर, न्यूब्लॉक, एबी रोड़, माधव चौक, गुरुद्वारा, राजेश्वरी रोड, कोर्ट रोड होकर गांधीचौक, धर्मशाला रोड, आर्य समाज रोड़ होता हुआ पुन: गांधी पार्क पहुंचा, जहां पाण्डुकशिला पर विराजमान बालक आदि कुमार का 1008 कलशों द्वारा अभिषेक सौधर्म इन्द्र अमि तजैन जड़ी-बूटी परिवार द्वारा किया गया। वहीं कुबेर बने देशराज- मधु चौधरी, को ईशान इंद्र बने राजेश भारती जैन द्वारा पूरे रास्ते रत्नों की वृष्टि की। पुण्यार्जक परिवारों द्वारा हेलिकॉप्टर से पुष्प वर्षा भी की गई।

दिव्य घोष और रेजीमेंट के प्रस्तुति रही आकर्षण का केंद्र

इस महा जुलूस अभियान के दौरान सुधासागर रेजिमेंट खनियाधाना के 120 सदस्य भी परेड करते हुए कदमताल मिला कर चल रहे थे। साथ ही कर्नाटक, सिरोंज के दिव्यघोष भी शामिल हुए। इस पूरे आयोजन में पुलिस प्रशासन का भरपूर सहयोग देखने को मिला।

खबरें और भी हैं...