पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आयोजन:बुरा बाेलकर किसी की आत्मा को दुख न पहुंचाएं : रेखा बहन

पोरसा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भला कर भला होगा, बुरा कर बुरा होगा। हर इंसान को शब्द बोलने से पहले शब्दों के बारे में सोचना चाहिए कि इसका परिणाम क्या होगा। किसी की आत्मा को दुख नहीं पहुंचाना चाहिए। जो दूसरों की आत्मा को दुख पहुंचाता है उसकी आत्मा को दुख पहुंचाता है उसको स्वयं ही दुख प्राप्त होता है। यह बात रेख बहन ने बुधवार को पंचमुख हनुमान मंदिर जोटई पर एक कार्यक्रम में कही।

यह आयोजन प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय गांधीनगर पोरसा सेवा केंद्र की तरफ से किया गया जिसमें बीके रेखा बहन ने बताया की अपनी दैनिक दिनचर्या में ईश्वर को अपना साथी सहयोगी बनाये। घर से बाहर निकलते समय अपने साथ ईश्वर का हाथ थाम कर रखें। इससे सभी संकट से दूर रह सकते हैं।

किसी की बुराई न करे , किसी की चुगली न करंे, किसी के साथ बेईमानी न करें, किसी का दिल न दुखायें। क्योंकि दुख से आत्मा दुखी होती है। आत्मा परमपिता परमात्मा की संतान हैं जिसको दुख पहुंचता है। जिससे भगवान भी नाराज हो जाते हैं। आपका प्रारब्ध खराब होता है। अपने शब्द को बनाने के लिए सबके साथ मिलकर रहें। सभी से प्रेम के साथ वार्तालाप करें। सभी को प्रेम दें और सभी से प्रेम पाने की उम्मीद करें। कार्यक्रम में पोरस सेवाकेंद्र से गीता बहन, सुमन बहन, रेखा बहन, पुष्पा बहन,अनीता बहन ने भजन मंडली के साथ भजन प्रस्तुत कर उपस्थित लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

खबरें और भी हैं...