पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आस्था का पर्व:रामेश्वर धाम पर सुबह से जुटे भक्तों ने लगाई आस्था की डुबकी, मंदिरों में किए दान-पुण्य

श्याेपुुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रामेश्वर धाम त्रिवेणी संगम एवं ध्रुव कुंड पर स्नान के लिए लगा श्रद्धालुओं का जमावड़ा

तिथियाें में घटबढ़ के चलतेे साेमवार काे भाद्रपद कृष्ण चतुर्दशी और अमावस्या एक ही दिन पड़ने से जिलावासियाें ने कई जगह साेमवती अमावस्या मनाई। दान धर्म के इस पर्व पर श्रद्धालुओं ने पवित्र जलाशयाें में स्नान के बाद मंदिराें में दान पुण्य किए। प्रसिद्ध तीर्थस्थल रामेश्वर धाम पर त्रिवेणी संगम में तड़के 4 बजे से शुरू हुआ स्नान व दान-पुण्य का सिलसिला दोपहर बाद तक अनवरत जारी रहा। इस बीच मोक्ष की कामना को लेकर सैकड़ाें श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। वहीं ग्राम उतनवाड़ स्थित पाैराणिक महत्व के ध्रुव कुंड पर भी स्नानार्थियाें का जमावड़ा रहा। बड़ाैदा क्षेत्र के अलावा सीमावर्ती राजस्थान के बारां-मांगराेल से भी बड़ी संख्या में लाेगाें ने परिवार सहित ध्रुव कुंड में स्नान किए। वहीं शहर में मंशापूर्ण हनुमान मंदिर पर भंडारे में गरीबों को भोजन कराया। सुहागिन महिलाओं ने व्रत रखकर मंदिराें में ऋतुफल का दान किया। सुहाग सामग्री भी बांटी गई।

चंबल, बनास व सीप नदियों में किए पवित्र स्नान

शहर से 39 किमी दूर रामेश्वर धाम पर साेमवार काे श्रद्धालुओं की विशेष चहल पहल रही। चंबल,बनास व सीप नदियाें के पवित्र त्रिवेणी संगम तट पर ऊषाकाल से ही हर हर गंगे के उद्घाेष गूंजने लगे। स्नान के बाद लाेगाें ने रामेश्वर महादेव तथा भगवान लक्ष्मीनारायण मंदिर मेंं दर्शन किए। कई श्रद्धालुओं ने नाव से उस पार जाकर राजस्थान सीमा में परशुराम घाट पर स्नान किया। भगवान चतुर्भुज नाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। मंदिर में अनगिनत बरसों से जल रही अंखड ज्योति के दर्शन किए और अखंड रामधुन सुनकर श्रद्धालु निहाल हो गए।

गरोडिया हनुमानजी के मंदिर पर महिलाओं ने गाए भजन कीर्तन

शहर के जीवन टाकीज रोड स्थित गरोडिया हनुमान मंदिर पर सोमवार को महिला मंडल ने भजन कीर्तन कराए। जिसमे मैन बाजार, जोशी मोहल्ला, सरावगी मोहल्ला की महिलाओं ने भजन कीर्तन के जरिए भगवान का गुणगान किया। दोपहर बाद 3 बजे इस कार्यक्रम की शुरुआत रामवती शर्मा ने गणपति वंदना से की। इसके बाद महिलाओं ने एक से बढ़कर एक सुरीले भजन पेश किए। भजनों की मस्तीभरी धुनों से माहौल धर्ममय हो गया।

शाम को प्रसाद वितरण के साथ समापन हुआ।भाद्रपद कृ़ष्ण अमावस्या पर साेमवार काे लोगों ने दिल खोलकर दान-पुण्य किए। शहर के मंशापूर्ण हनुमान मंदिर पर गरीबों को भरपेट भोजन कराया । साधू संत और ब्राह्मणाें काे अन्न -वस्त्र का दान किया। वहीं रामेश्वर धाम पर त्रिवेणी संगम तट पर लोगों ने दाल, बाटी , चूरमा बनाया। यजमानों ने ब्राह्मणों को भोजन कराया,दक्षिणा देकर आशीर्वाद लिया।
सुहाग के लिए महिलाओं ने व्रत रखकर सुनी कथा
शहर समेत अंचल मेें सोमवार को महिलाओं ने सोमवती अमावस्या मनाई। अखंड सुहाग की कामना से महिलाओं ने इस दिन व्रत रखा, पारंपरिक रूप से कथा कही और सुनी। मंदिरों में अन्न, वस्त्र, फल का दान किया। सुहागिन महिलाओं काे सुहाग सामग्री भी बांटी तथा आशीर्वाद प्राप्त किया। भंडारे में गरीबों को भोजन, साधू ब्राह्मणाें काे अन्न- वस्त्र दिए। इसके साथ ही लोगों श्रद्धाभाव के साथ दान पुण्य किया।

खबरें और भी हैं...